आपकी साइट जैसे जैसे पॉपुलर होते जाएगी वैसे वैसे ज्यादा लोग आपकी साइट पर विजिट करेंगे | जब कोई इंसान गूगल सर्च पर कोई बात सर्च करता है और यह बात सर्च करने के बाद आपकी साइट अगर ऊपर आती है तो आपने समझ जाना है कि आपकी साइट गूगल के बौट पर सही पोजीशन पर है | जिसके कारण कोई भी अननोन इंसान किसी भी बात को सर्च करने के बाद जो साइट पहले नंबर पर आती है उस पर क्लिक करता है |
श्यामा की कड़ी मेहनत को देखकर, अब उसका पति भी समूह की गतिविधियों में उसकी मदद करता है। श्यामा के अपने शब्दों में, “मुझे अपने काम से प्यार है। मेरी सबसे बड़ी उपलब्धि यह थी कि मैंने पहले सब कुछ आजमाया, अनुभव हासिल किया और फिर दूसरों को सलाह दी।” श्यामा देवी अपने स्वयं-सहायता समूह के काम में कामयाबी के साथ-साथ अन्य महिलाओं के बीच अपने जीवन में बदलाव लाने के लिए जागरूकता फैलाती हैं।
यह वेबसाइट टेक्नोलॉजी से सम्बंधित सभी तरह का ज्ञान मुफ्त में प्रदान करने के लिए बनाया गया है | इस वेबसाईट के माध्यम से मैं राजकुमार सिंह (Subjectgo) आपको सभी तरह के तकनीकी ज्ञान मुफ्त में देने के लिए डिजाईन किया है | मैं इस वेबसाइट के माध्यम से मुफ्त में टेक्नोलॉजी से सम्बंधित ज्ञान जैसे: कंप्यूटर, इन्टरनेट, मोबाइल, सॉफ्टवेयर -ऐप्स इत्यादि चीजें सिखाने का पूरा कोशिश कर रहा हु |
गरीबी के कारण, श्यामा और उनके साथी गाँव की महिलाएँ समूह के लिए 100 रुपए की छोटी राशि का भी योगदान नहीं कर पा रही थीं, जिसके कारण समूह टूट गया। ऐसी स्थिति में प्रत्येक सदस्य समूह से अपने नाम वापस लेने के लिए ब्लॉक अधिकारियों से संपर्क करने लगे। लेकिन, ऐसे समय में केवीके और ब्लॉक के अधिकारियों ने महिला समूहों को सफलतापूर्वक समूह चलाने के महत्त्व के बारे में शिक्षित किया और उनके उत्थान के लिए विभिन्न सरकारी योजनाओं के बारे में उन्हें जागरूक किया। इसके बाद, महिला समूहों को उन 5 नियमों का पालन करने के लिए निर्देशित किया गया था जिनमें कहा गया था: साप्ताहिक बैठकें, साप्ताहिक बचत, साप्ताहिक ऋण, सही ऋण वापसी और रिकॉर्ड बनाए रखना। इस तरह के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए, समूह 1 जनवरी, 2014 को एक बार गठित हुआ, जिसमें श्यामा देवी के साथ 25 पुराने और नए सदस्य चुने गए। उनके नेतृत्व में, समूह को आय सृजन गतिविधियों के साथ समूह का कायाकल्प करने के लिए प्रेरित किया गया था।
हर व्यक्ति में एक ना एक टैलेंट जरूर होता है। माली जी अगर आपको राइटिंग का टैलेंट है। और आप लिखना पसंद करते हैं। तो आप किसी कंपनी के लिए टाइप कर सकते हैं। जैसे कि बहुत ऐसे कंपनी है। जो चाहते हैं कि उनके वेबसाइट पर हमेशा Article Updates होता रहे। उनके पास इतना टाइम नहीं होता है क्योंकि उनके पास और भी बहुत सारे बिजनेस होते हैं। वह चाहते हैं कि कोई ऐसा हमें मिले जो मेरी वेबसाइट पर हमेशा आर्टिकल डालते रहे। 🙂
लेकिन आज का परिदृश्य अब पहले की तरह नहीं रहा। यह पूरी तरह से बदल गया है। स्कूल जा रहे बच्चों के साथ, छेड़छाड़ और बलात्कार जैसे मामले और अन्य स्कूल संबंधी अपराधों के कई आत्मघाती मामले स्पष्ट रूप से दर्शा रहे हैं कि बहुत कुछ बदल चुका है। अगर हम समाचार पत्रों की हेडलाइंसों को देखते हैं तो हमें इस प्रकार की कई सुर्खियां दिखाई पड़ती हैं। चेन्नई में एक 10 वीं कक्षा की छात्रा ने शिक्षक द्वारा पिटाई और निर्वस्त्र होने से क्षुब्ध होकर आत्महत्या कर ली थी। दिल्ली में एक शिक्षक द्वारा एक छात्र पर डस्टर फेंकने के कारण उस छात्र ने अपनी आँखे खो दीं थीं और हाल यह हो गया है कि छात्र भी अपने शिक्षकों को नहीं छोड़ते। अपने शिक्षकों को मारने वाले छात्रों की खबरों को भी पूरे भारत में सुना गया है। कुछ अमीर छात्र बहुत ही अक्खड़ होते हैं और वे पैसों के घमंड़ में आकर अपने शिक्षकों का सम्मान भी नहीं करते हैं तथा अपने गुरू की बात पर ध्यान भी नहीं देते, कि वे क्या कह रहे हैं।
×