नई दिल्ली, 7 जनवरी 2018- आजकल मोबाइल और इंटरनेट का जमाना है. हर कोई बिना मोबाइल और इंटरनेट के नही रह पता है. हर एक चीज़ मोबाइल से ही हो जाती है. जहाँ पहले के समय में हर कोई लंबी लंबी लाइन में लग कर बिजली बिल (Electricity bill online payment), फोन के बिल, पानी के बिल (Pay water bill online) यार फिर कोई सरकारी काम करना हो सभी का बहुत ज़्यादा टाइम बर्बाद होता था. आजकल मोबाइल और इंटरनेट के आ जाने से सभी का समय और पैसा बच जाता है. हर दिन 24 घंटों में बहुत सारा टाइम मोबाइल और इंटरनेट में ही चलाजाता है. WhatsApp या Facebook या फिर youtube हर कोई उसे करता है.

इस दौरान, श्यामा देवी ने आसानी से उपलब्ध फसल/कच्चे माल के साथ कुछ स्थानीय व्यवसाय करने के बारे में जानने/सीखने के लिए भी महिला समूह बनाया। इस प्रक्रिया में, केवीके ने महिला समूहों को खाद्य पदार्थों की पैकेजिंग, संरक्षण तकनीक, मूल्य संवर्धन आदि के प्रशिक्षण के साथ-साथ ऐसे उत्पादों के विपणन के बारे में कुशलता से सीखने के लिए प्रेरित किया। इससे महिलाओं को आर्थिक रूप से स्थिर और स्वतंत्र बनने में मदद मिली।

क्या आपने कभी सोचा है की आप जितना समय social media में देते हैं और उतना समय आप ऑनलाइन काम करके अच्छा पैसा कमा सकते हैं. अब आप यही रहे है ना की इंटरनेट से पैसा कैसे कमाए (Internet se paise kaise kamaye) वो भी बिना पैसे खर्च किए हुए? अगर आप सोच रहे हैं की इंटरनेट से पैसे कैसे कमाते है (Internet se paise kaise kamate hain)? और बिना इनवेस्टमेंट के कैसे ऑनलाइन पैसे कमाए (Online paise kaise kamaye) तो हमारी या पोस्ट आपके लिए बहुत informative शाबित होगी.
श्यामा ग्राम फतेहपुर, ब्लॉक विकासनगर, जिला देहरादून से संबंध रखती हैं। वह श्री त्रिलोक सिंह की विवाहिता है और एक हाउस-वाइफ (गृहस्वामिनी) है। श्यामा ऐसे गाँव में रहती हैं, जहाँ अशिक्षित होने के अलावा, महिलाओं को अपने पति की अनुमति के बिना अपने घरों से बाहर कदम रखने की भी अनुमति नहीं थी। यही हाल श्यामा का भी था, जिनके पति शराबी होने के कारण परिवार की बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए भी पर्याप्त पैसा नहीं कमा पाते थे। अपनी मर्जी से श्री त्रिलोक से शादी करने के कारण, श्यामा का परिवार भी उनकी आर्थिक मदद करने से पीछे हटा रहा। फिर, वह समय आया जब श्री त्रिलोक को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा और उसके परिवार के लिए सब कुछ टूट गया। स्थिति यहाँ तक ​​बिगड़ गई कि उन्हें अपने अस्तित्व के लिए अपना घर भी बेचना पड़ा। यहाँ तक ​​कि उनके बच्चों को स्कूल की फीस का भुगतान न कर पाने के कारण उन्हें स्कूलों से निकाल दिया गया।  
कड़ी मेहनत और समर्पण के लिए, श्यामा देवी को केवीके, ढकरानी द्वारा राज्यस्तरीय महिला सम्मान पुरुस्कार के लिए नामांकित किया गया, जिसे 5 अक्टूबर, 2018 को जी. बी. पंत कृषि और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, पंतनगर के कुलपति द्वारा उसे देकर सम्मानित किया गया। शानदार काम को प्रदर्शित करने के लिए, समूह को श्रीमती मनीषा पंवार, निदेशक, उत्तराखंड राज्य आजीविका मिशन द्वारा उत्तराखंड हिमान्या सरस मेला में भी सम्मानित किया गया था। इस सफलता के बाद, महिला जागृति समूह ने 14 समान समूहों के साथ ब्लॉक मिशन प्रभाण्डक की मदद से 23 जून, 2018 को जय माता दी, ग्राम संगठन की स्थापना की।
2) Affiliate Marketing: ये होता है, दुशरो को चीजों को sell करने में मदद करना. जब आप online बिकने वाला कोई product को sell करने में मदद करते है, तो वो seller आपको commission देता है. आप बड़े बड़े e-commerce websites जैसे Flipkart, Amazon या फिर कोई hosting company के product को sell करवा के अच्छा खासा income कर सकते है. आप affilate marketing में Advertising से ज्यादा पैसे कमा सकते है.
YouTube के बारे में कौन नहिं जानता. फिर भी जानकारी केलिए बता देता हूँ के ये world का 3rd most popular website है, जहाँ हर रोज millions views होते है. जो ये नहिं जानते में उन्हें बताना चाहूँगा के YouTube एक बेहतर जरिया है पैसे कमाने का. Content लिखने को Blogging कहते है और Video के जरिये पैसे कमाने को Vlogging कहते है. Vlogging यानि video blogging. मैंने पहले भी Blogging vs Vlogging के बारे में एक post लिखा था, आप चाहे तो उसे पढ़ सकते हैं. इसमें भी आपके पास दो चीजों का होना बहुत जरुरी है.

केवीके ने महिला समूहों को सरकार की विभिन्न विकासात्मक योजनाओं जैसे कि टेक होम राशन आदि के बारे में जागरूक करने में मदद की। समूह भी राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (NRLM) के साथ जुड़ गया और अपने भविष्य के प्रयासों के लिए 1,00,000 रुपये की राशि प्राप्त की। अब समूह के सदस्यों ने विभिन्न आँगनबाड़ियों की आपूर्ति के लिए घर पर राशन की पैकेजिंग का काम शुरू कर दिया। एक सफल महिला के रूप में, श्यामा ने अन्य महिलाओं को प्रेरित किया और फलों और सब्जियों के संरक्षण जैसे अन्य क्षेत्रों पर काम करना शुरू किया। आज समूह का वार्षिक कारोबार 1,14,00,000.00 रुपये जबकि एक समूह के सदस्यों की कुल वार्षिक बचत लगभग 2,40,00.00 रुपये है। इसने उन्हें न केवल आर्थिक रूप से स्वतंत्र बनाया, बल्कि समाज की अन्य कमजोर गरीब महिलाओं के लिए भी संवेदनशील बनाया।
ऑनलाइन बुक राइटिंग – पहले जहाँ बुक लिखकर पब्लिश करवाना किसी टेढ़ी खीर जैसा मुश्किल लगता था वहीँ आज इंटरनेट के इस दौर में अगर आप अपनी बुक लिखना चाहते हैं तो बिना किसी खर्च के किसी भी ई बुक पब्लिशिंग वेबसाइट पर फ्री में अपनी ई-बुक पब्लिश करके ऑनलाइन बेच सकते हैं। अमेज़न, फ्लिपकार्ट, ईबे जैसी ई-कॉमर्स वेबसाइट पर ई -बुक्स को बड़ी आसानी से बेचा जा सकता है।
एफिलिएट मार्केटिंग से पैसे कमाने के तरीके बहुत ज्यादा अच्छा है. जिससे आप अपने घर बैठे पैसे कमा सकते हैं. इसके अलावा एफिलिएट मार्केटिंग में यदि आप ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट से एफिलिएट नहीं लेना चाहते हैं, तो आप एक ही वेबसाइट से बहुत सारे ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइटों का एफिलिएट  ले सकते हैं. कुलिंक एक ऐसा ही वेबसाइट है, जो आपको एफिलिएट मार्केटिंग का बहुत सारे ऑप्शंस देता है. कुलिंक आपको ढेर सारी अपडेट्स डेली भेजते रहते हैं.
 मैं जिस तकनीक की ओर झुकाव करता हूं वह एसईओ सामग्री, या पदार्थ बना रही है जिसे वास्तविक वेब इंडेक्स में अच्छी तरह से रैंक करने के लिए बढ़ाया गया है। व्यक्तियों को इसका पता तब चलता है जब वे उस के लिए स्कैन कर रहे होते हैं, नेविगेट करते हैं और खरीद लेते हैं कि उन्हें क्या चाहिए या जरूरत है। यह वास्तव में अच्छी तरह से काम करता है क्योंकि आप एक बार पदार्थ की रचना करते हैं, और यह महान स्थिति रखता है और आने वाले समय के लिए आपको नकद प्राप्त करता है। जो भी समय के लिए आप अपनी वेब इंडेक्स रैंकिंग को बनाए रखें।
×