अगर आप ब्लॉगिंग करना चाहते हैं. तो आप blogger blog से शुरू करिए. जो कि एकदम free of cost है. जब आप अच्छा कमाने लग जाए और आपको एक्स्ट्रा फीचर्स की जरूरत पढ़े तो आप wordpress पर शिफ्ट कर जाएं. जो कि ब्लॉगिंग का paid Platform है. जहां पर आपको कई एडवांस फीचर मिल जाएंगे जो आपके ब्लॉगिंग एक्सपीरियंस को काफी आसान बना देंगे. अगर आप ब्लॉगिंग के बारे में अधिक जानकारी चाहते हैं तो रवि भाई के ब्लॉग anytechinfo पर विजिट कर सकते हैं.
तो चलिए हमारे इस आर्टिकल के जरिये हम आपको घर भैते पैसे कमाने के बारे में विस्तार से बताएंगे| क्या आपको पता हैं की घर बैठे कमाई करना कोई मुश्किल काम नहीं हैं| आज के समय में सब काम ऑनलाइन हो गया हैं| डिजिटल इंडिया की वजह से आज हर काम बहुत आसान हो गया हैं| बहुत से ऐसे ऑनलाइन तकनीक हैं जिसकी वजह से आप घर पर भैते ही ऑनलाइन पैसे कमा सकते हैं| इसके लिए आपको कोई अलग स्किल आने की जरुरत नहीं हैं| अगर आपको कंप्यूटर ऑपरेट करना आता हैं और आप कंप्यूटर पेकाम केर सकते हैं तो इसकी मदत से आप ऑनलाइन पैसे कमा सकते हैं| बहुत सी ऐसी कपोनी हैं जो ऑनलाइन अपना काम दुसरो से करवाती है| इसे फ्रीलान्स कहते हैं| आप चाहे तो ऑनलाइन अपना किसी चीज़ पर राइटिंग करके वो कंटेंट ऑनलाइन किसी वेबसाइट को बेच सकते हैं इससे वो वेबसीटे इसके बदले आपको पैसे देती हैं|
Internet या Online पर सामानों को Selling करना बहुत ही आसान होता है। आपको किसी भी अच्छे Online Shopping वेबसाइट पर Seller Account खोलना होगा और वहां अपने Products का एक Gallery बनाना होगा। बस और क्या आपके सामान लोगों को दिखने लगेंगे। सभी मौजूद Shopping Website आपके सामान के बिकने के बाद एक छोटी सी fees लेते हैं। सभी Shopping वेबसाइट Seller Account की सुविधा नहीं देते हैं। इस Topic के अंत में हमने कुछ अच्छे Shopping वेबसाइट का नाम बताया है जो इसकी सुविधा देते हैं।
(function(){"use strict";function s(e){return"function"==typeof e||"object"==typeof e&&null!==e}function a(e){return"function"==typeof e}function l(e){X=e}function u(e){G=e}function c(){return function(){r.nextTick(p)}}function f(){var e=0,n=new ne(p),t=document.createTextNode("");return n.observe(t,{characterData:!0}),function(){t.data=e=++e%2}}function d(){var e=new MessageChannel;return e.port1.onmessage=p,function(){e.port2.postMessage(0)}}function h(){return function(){setTimeout(p,1)}}function p(){for(var e=0;et.length)&&(n=t.length),n-=e.length;var r=t.indexOf(e,n);return-1!==r&&r===n}),String.prototype.startsWith||(String.prototype.startsWith=function(e,n){return n=n||0,this.substr(n,e.length)===e}),String.prototype.trim||(String.prototype.trim=function(){return this.replace(/^[\s\uFEFF\xA0]+|[\s\uFEFF\xA0]+$/g,"")}),String.prototype.includes||(String.prototype.includes=function(e,n){"use strict";return"number"!=typeof n&&(n=0),!(n+e.length>this.length)&&-1!==this.indexOf(e,n)})},"./shared/require-global.js":function(e,n,t){e.exports=t("./shared/require-shim.js")},"./shared/require-shim.js":function(e,n,t){var r=t("./shared/errors.js"),i=(this.window,!1),o=null,s=null,a=new Promise(function(e,n){o=e,s=n}),l=function(e){if(!l.hasModule(e)){var n=new Error('Cannot find module "'+e+'"');throw n.code="MODULE_NOT_FOUND",n}return t("./"+e+".js")};l.loadChunk=function(e){return a.then(function(){return"main"==e?t.e("main").then(function(e){t("./main.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"dev"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("dev")]).then(function(e){t("./shared/dev.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"internal"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("internal"),t.e("qtext2"),t.e("dev")]).then(function(e){t("./internal.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"ads_manager"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("ads_manager")]).then(function(e){t("./ads_manager/main.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"publisher_dashboard"==e?t.e("publisher_dashboard").then(function(e){undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"content_widgets"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("content_widgets")]).then(function(e){t("./content_widgets.iframe.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):void 0})},l.whenReady=function(e,n){Promise.all(window.webpackChunks.map(function(e){return l.loadChunk(e)})).then(function(){n()})},l.installPageProperties=function(e,n){window.Q.settings=e,window.Q.gating=n,i=!0,o()},l.assertPagePropertiesInstalled=function(){i||(s(),r.logJsError("installPageProperties","The install page properties promise was rejected in require-shim."))},l.prefetchAll=function(){t("./settings.js");Promise.all([t.e("main"),t.e("qtext2")]).then(function(){}.bind(null,t))["catch"](t.oe)},l.hasModule=function(e){return!!window.NODE_JS||t.m.hasOwnProperty("./"+e+".js")},l.execAll=function(){var e=Object.keys(t.m);try{for(var n=0;n=c?n():document.fonts.load(u(o,'"'+o.family+'"'),a).then(function(n){1<=n.length?e():setTimeout(t,25)},function(){n()})}t()});var w=new Promise(function(e,n){l=setTimeout(n,c)});Promise.race([w,m]).then(function(){clearTimeout(l),e(o)},function(){n(o)})}else t(function(){function t(){var n;(n=-1!=y&&-1!=g||-1!=y&&-1!=v||-1!=g&&-1!=v)&&((n=y!=g&&y!=v&&g!=v)||(null===f&&(n=/AppleWebKit\/([0-9]+)(?:\.([0-9]+))/.exec(window.navigator.userAgent),f=!!n&&(536>parseInt(n[1],10)||536===parseInt(n[1],10)&&11>=parseInt(n[2],10))),n=f&&(y==b&&g==b&&v==b||y==x&&g==x&&v==x||y==j&&g==j&&v==j)),n=!n),n&&(null!==_.parentNode&&_.parentNode.removeChild(_),clearTimeout(l),e(o))}function d(){if((new Date).getTime()-h>=c)null!==_.parentNode&&_.parentNode.removeChild(_),n(o);else{var e=document.hidden;!0!==e&&void 0!==e||(y=p.a.offsetWidth,g=m.a.offsetWidth,v=w.a.offsetWidth,t()),l=setTimeout(d,50)}}var p=new r(a),m=new r(a),w=new r(a),y=-1,g=-1,v=-1,b=-1,x=-1,j=-1,_=document.createElement("div");_.dir="ltr",i(p,u(o,"sans-serif")),i(m,u(o,"serif")),i(w,u(o,"monospace")),_.appendChild(p.a),_.appendChild(m.a),_.appendChild(w.a),document.body.appendChild(_),b=p.a.offsetWidth,x=m.a.offsetWidth,j=w.a.offsetWidth,d(),s(p,function(e){y=e,t()}),i(p,u(o,'"'+o.family+'",sans-serif')),s(m,function(e){g=e,t()}),i(m,u(o,'"'+o.family+'",serif')),s(w,function(e){v=e,t()}),i(w,u(o,'"'+o.family+'",monospace'))})})},void 0!==e?e.exports=a:(window.FontFaceObserver=a,window.FontFaceObserver.prototype.load=a.prototype.load)}()},"./third_party/tracekit.js":function(e,n){/**
आपके पास थोड़ा ज्ञान होना चाहिए आप अपने आप इस जगह से सीखते चले जायेंगे और पैसे भी कमाते रहेंगे तो आज हम आपको internet se paise kamane ke tarike बताने जा रहे है जिनसे ज्यादा पैसा कमाया जा सकता है और इन तरीको को बहुत लोग इस्तेमाल कर रहे हैं. अगर आप किसी चीज में माहिर हो या थोड़ा बहुत भी ज्ञान है जैसे आप वेब डेवलपर हो, आपकी टाइपिंग स्पीड अच्छी, आप एक एक्टर या आप एक वोइस एक्टर हो, आप एनीमेशन बना सकते हो, आप लोगो डिजाइन कर सकते हो, आप पेंटिंग कर सकते हो, आप कुछ भी ऐसा कर सकते हो जो विशेष हो तो आपके लिए ऑनलाइन पैसा कमाने की वेबसाइट बताने जा रहे हैं जिनसे आप पैसे कमा सकते हैं.
 लेकिन YouTube पर ऐसा नहीं है. YouTube पर आप थोड़ी बहुत टेक्निकल नॉलेज से काम चला सकते है. जिसे आप आसानी से इंटरनेट के माध्यम से सीख सकते है. लेकिन अगर आप YouTube में करियर बनाना चाहते हैं, तो सबसे जरूरी बात आपके content यानी कि वीडियो में जान होनी चाहिए. अगर सीधी भाषा में कहें तो आपका content लोगों को पसंद आना चाहिए. जिससे आपके views increase हों और आपको रेगुलर ऑडियंस मिल सके.
सबसे पहले आपको Media.net की वेबसाइट पर जाकर अपनी वेबसाइट, फोन नम्बर और ईमेल पता भरकर इंविटेशन प्राप्त करना होगा। जब आपको इंविटेशन मिल जाए तो अपना सभी जानकारी सही सही भर दें। फिर आपको अकाउंट एप्रूवल मिल जाएगा जिसकी जानकारी आपका अकाउंट मैनेजर आपको देगा। इसके बाद अपनी Media.net पर Login कर सकते हैं। इसके बाद आप नए ऐड यूनिट बनाकर अपनी वेबसाइट थीम के अनुसार ऑप्टिमाइज़ कर सकते हैं और अपने ब्लॉग पर विज्ञापन लगाकर कमाई शुरु कर सकते हैं।
सामान बेचने के लिए आपको थोडा Marketing Skill सीखना पड़ेगा (जिससे आप अपने items को औरों से अच्छा बता सकते हैं). इसके विषय में आपको internet से जानकारी प्राप्त हो सकती है. यहाँ पर आपको दुसरे seller को थोडा study करना होगा की वो किस प्रकार से अपने चीज़ों के विषय में लिखते हैं, क्या price रखते हैं और कैसे उन चीज़ों का promotion करते हैं. इससे आप अपने brand की value को भी बढ़ा सकते हैं. इस काम में आप अपने friends और relatives की भी सहायता ले सकते हैं और उनसे पुरानी चीज़ें collect कर सकते हैं.
आज के ज़माने में affiliate marketing कमाई करने का सबसे popular तरीका बन गया है. आप सोच रहे होंगे. आखिर affiliate marketing हे क्या? वो तो इस link के माध्याम से समझ सकते है. फिर भी अगर किसी e-commerce website को उसके product बेचने में help करना. जैसे amazon, flipkart, snapdeal etc. प्रोडक्ट्स बेचने में help करना और बदलेमे उनसे commission लेना. इसी पूरी process को affiliate marketing कहते है.
वेबसाइट में आपको पहले पैसे लगाने पड़ते है लेकिन Youtube में आपको किसी भी तरह का पैसा लगाने की जरुरत नहीं है. आप यूट्यूब में अच्छे वीडियो डालकर पैसे कमा सकते हो. और ये वेबसाइट के बाद इन्टरनेट से पैसे कमाने के तरीके में सबसे अच्छा तरीका है. वेबसाइट और यूट्यूब में अंतर सिर्फ इतना है कि वेबसाइट में आपको लिखना पड़ता है जबकि इसमें आपको वीडियो बनाना पड़ता है दोनो में Google Adsense से विज्ञापन लगते है और जब कोई इन विज्ञापन पर क्लिक करता है तो आपको इसके पैसे मिलते हैं.

इसलिए आज हम हमारे दोस्तों को ऑनलाइन इंटरनेट पर पैसा कैसे कमाते हैं के बारे में अच्छी-अच्छी जानकारी बताने वाले हैं | इस जानकारी के कारण शायद हर कोई जान सकेगा कि ऑनलाइन पैसा कैसे कमाया जाता है | हम देखते हैं कि बहुत सारे लोग इंटरनेट पर ऑनलाइन रिजल्ट देखते हैं, ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं, ऑनलाइन मोबाइल रिचार्ज करते हैं, या ऑनलाइन डिश रिचार्ज भी करते हैं |
online paise kaise kamaye ? आजकल ज्यादातर लोग Offline से ज्यादा Online कोर्स लेना पसंद कर रहे हैं। आखिर ऑनलाइन कोर्स होता क्या है? यह एक प्लेटफॉर्म है जहां लोग पैसे खर्च करके अपना मनपसंद Skills सीखते हैं। मान लीजिए आप को फोटोग्राफी में इंटरेस्ट है। तो यह सीखने के लिए आपको एक अकैडमी को ज्वाइन करना होगा। अब यह तो मुमकिन नहीं है कि आप जो पढ़ना यह सीखना चाहते हैं। वह आपको घर के आस-पास हो। इसके लिए आपको बाहर भी जाना पड़ सकता है। ऑनलाइन ट्यूशन के जरिए कोई भी घर बैठे अपना मनचाहा कोर्स ले सकता है। 🙂
यूट्यूब पर बहुत सारे लोग दूसरों का मनोरंजन होने के लिए विभिन्न वीडियोस बनाते हैं और यूट्यूब पर अपलोड करते हैं | कई बार बहुत सारे वीडियोस ऐसे होते हैं जो बेहतरीन होने के कारण ट्रेंडिंग पर आ जाते हैं | जो वीडियो ट्रेंडिंग पर होता है उस वीडियो के कारण उस चैनल का मालिक आसानी से लाखों रुपए कमा लेता है, यूट्यूब पर काम करते समय आपका मनोरंजन होने के साथ-साथ आपको शोहरत भी मिलती है |
बातचीत का अभाव, स्वार्थी उद्देश्य और लाभ, ये सभी शिक्षक-छात्र संबंधों के हिस्से में नहीं होते हैं, क्योंकि ये संबंध स्वार्थी हितों से अलग होते हैं। इन सभी के लिए कोई अवधि नहीं होती है। लेकिन कुछ दिन पहले, मैंने एक समाचार पत्र पढ़ा था जिसमें मैंने जो कुछ भी सोचा था वह उसके विपरीत ही था। ठाकुर विद्या मंदिर विद्यालय के एक प्रधानाचार्य और शिक्षक ने अपने पूर्व छात्रों को अपनी पत्नी की हत्या के लिए 50, 000 रुपये दिए। प्राधानाचार्य अपनी पत्नी को मारना चाहते थे, क्योंकि उनकी पत्नी ने उन पर उसी स्कूल की महिला छात्रों के साथ संबंध रखने के लिए संदेह किया था। उन छात्रों ने उनकी पत्नी को मार दिया और उनका शव फेंकने से पहले उसके शरीर को टुकड़ों में काट दिया था। जिसने निर्दयता की सीमा को पार कर दिया। नैतिक महत्व और मानकों में भी गिरावट आ गयी है, इस कारण अच्छे संबंध भी अप्रभावित नहीं टिक पा रहे हैं। हमें ऐसे शिक्षकों के बारे में विचार करना होगा, जो नैतिक मान्यता को स्थापित करने की बजाय इस तरह के अनैतिक संबंधों और ऐसे कुकर्मों को करते हैं। शिक्षकों और छात्रों के बारे में इस तरह की अधिक से अधिक खबरें आ रही हैं, हमें इस तथ्य से सहमत होना होगा कि शिक्षा का नैतिक मूल्य से कोई लेना देना नहीं है और इस तथ्य को भी सुनिश्चित करना होगा कि शिक्षक-छात्र संबंध की परिभाषा बदल रही है या बिगड़ रही है।
×