!function(e){function n(t){if(r[t])return r[t].exports;var i=r[t]={i:t,l:!1,exports:{}};return e[t].call(i.exports,i,i.exports,n),i.l=!0,i.exports}var t=window.webpackJsonp;window.webpackJsonp=function(n,r,o){for(var s,a,l=0,u=[];l1)for(var t=1;td)return!1;if(p>f)return!1;var e=window.require.hasModule("shared/browser")&&window.require("shared/browser");return!e||!e.opera}function a(){var e="";return"quora.com"==window.Q.subdomainSuffix&&(e+=[window.location.protocol,"//log.quora.com"].join("")),e+="/ajax/log_errors_3RD_PARTY_POST"}function l(){var e=o(h);h=[],0!==e.length&&c(a(),{revision:window.Q.revision,errors:JSON.stringify(e)})}var u=t("./third_party/tracekit.js"),c=t("./shared/basicrpc.js").rpc;u.remoteFetching=!1,u.collectWindowErrors=!0,u.report.subscribe(r);var f=10,d=window.Q&&window.Q.errorSamplingRate||1,h=[],p=0,m=i(l,1e3),w=window.console&&!(window.NODE_JS&&window.UNIT_TEST);n.report=function(e){try{w&&console.error(e.stack||e),u.report(e)}catch(e){}};var y=function(e,n,t){r({name:n,message:t,source:e,stack:u.computeStackTrace.ofCaller().stack||[]}),w&&console.error(t)};n.logJsError=y.bind(null,"js"),n.logMobileJsError=y.bind(null,"mobile_js")},"./shared/globals.js":function(e,n,t){var r=t("./shared/links.js");(window.Q=window.Q||{}).openUrl=function(e,n){var t=e.href;return r.linkClicked(t,n),window.open(t).opener=null,!1}},"./shared/links.js":function(e,n){var t=[];n.onLinkClick=function(e){t.push(e)},n.linkClicked=function(e,n){for(var r=0;r>>0;if("function"!=typeof e)throw new TypeError;for(arguments.length>1&&(t=n),r=0;r>>0,r=arguments.length>=2?arguments[1]:void 0,i=0;i>>0;if(0===i)return-1;var o=+n||0;if(Math.abs(o)===Infinity&&(o=0),o>=i)return-1;for(t=Math.max(o>=0?o:i-Math.abs(o),0);t>>0;if("function"!=typeof e)throw new TypeError(e+" is not a function");for(arguments.length>1&&(t=n),r=0;r>>0;if("function"!=typeof e)throw new TypeError(e+" is not a function");for(arguments.length>1&&(t=n),r=new Array(s),i=0;i>>0;if("function"!=typeof e)throw new TypeError;for(var r=[],i=arguments.length>=2?arguments[1]:void 0,o=0;o>>0,i=0;if(2==arguments.length)n=arguments[1];else{for(;i=r)throw new TypeError("Reduce of empty array with no initial value");n=t[i++]}for(;i>>0;if(0===i)return-1;for(n=i-1,arguments.length>1&&(n=Number(arguments[1]),n!=n?n=0:0!==n&&n!=1/0&&n!=-1/0&&(n=(n>0||-1)*Math.floor(Math.abs(n)))),t=n>=0?Math.min(n,i-1):i-Math.abs(n);t>=0;t--)if(t in r&&r[t]===e)return t;return-1};t(Array.prototype,"lastIndexOf",c)}if(!Array.prototype.includes){var f=function(e){"use strict";if(null==this)throw new TypeError("Array.prototype.includes called on null or undefined");var n=Object(this),t=parseInt(n.length,10)||0;if(0===t)return!1;var r,i=parseInt(arguments[1],10)||0;i>=0?r=i:(r=t+i)<0&&(r=0);for(var o;r
online paise kaise kamaye ? आप ऑनलाइन सामान बेचकर भी पैसे कमा सकते हैं। यह बहुत अच्छा तरीका और बहुत ही आसान तरीका है। ऑनलाइन पैसे कमाने का। अगर आप कोई प्रोडक्ट बनाते हैं। या बेचते हैं, तो आप उसे ऑनलाइन भी Sell सकते हैं। अगर आपके पास कोई स्टोर है और कुछ बेचते हैं। तो आप ऑनलाइन पर जैसे, Flipkart, Amazon etc,. और भी जितने भी साइट से व्हा पर आप अपना प्रोडक्ट को Sell कर सकते हैं। 🙂
गरीबी के कारण, श्यामा और उनके साथी गाँव की महिलाएँ समूह के लिए 100 रुपए की छोटी राशि का भी योगदान नहीं कर पा रही थीं, जिसके कारण समूह टूट गया। ऐसी स्थिति में प्रत्येक सदस्य समूह से अपने नाम वापस लेने के लिए ब्लॉक अधिकारियों से संपर्क करने लगे। लेकिन, ऐसे समय में केवीके और ब्लॉक के अधिकारियों ने महिला समूहों को सफलतापूर्वक समूह चलाने के महत्त्व के बारे में शिक्षित किया और उनके उत्थान के लिए विभिन्न सरकारी योजनाओं के बारे में उन्हें जागरूक किया। इसके बाद, महिला समूहों को उन 5 नियमों का पालन करने के लिए निर्देशित किया गया था जिनमें कहा गया था: साप्ताहिक बैठकें, साप्ताहिक बचत, साप्ताहिक ऋण, सही ऋण वापसी और रिकॉर्ड बनाए रखना। इस तरह के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए, समूह 1 जनवरी, 2014 को एक बार गठित हुआ, जिसमें श्यामा देवी के साथ 25 पुराने और नए सदस्य चुने गए। उनके नेतृत्व में, समूह को आय सृजन गतिविधियों के साथ समूह का कायाकल्प करने के लिए प्रेरित किया गया था।
यदि आप एक अच्छे विडियो क्रिएटर बन जाते हैं, तो एक आप एक अच्छी इनकम कर सकते हैं. यूट्यूब येसा ही ऑनलाइन प्लेटफार्म प्रदान करता है, जहां से आप अपने वीडियो को क्रिएट कर अपलोड कर सकते हैं. यदि आपके विडियो के उपर एक अच्छा ट्रैफिक आने लगता है, तो यूट्यूब आपके चैनल को मोनेटाइजेशन कर देता है, यानि आपकी वीडियो पर यूट्यूब उस पर विज्ञापन दिखाना शुरु कर देता है.
गूगल ऐडसेंस एप्रूवल मिलना बहुत कठिन तो नहीं है लेकिन कई बार लोगों को महीनों तक इंतिज़ार करना पड़ सकता है। गूगल ऐडसेंस पहले अकाउंट लेवल एक्शन जल्दी ले लेता था जिससे आपकी ज़रा सी लापरवाही आपकी आमदनी को ख़त्म कर सकती थी। आज गूगल ऐडसेंस एकाउंट लेवल एक्शन लेने की बजाय पेज लेवल एक्शन लेने लगा है लेकिन फिर भी आपको Media.net के बारे में जानकारी रखनी चाहिए और इसपर भी एकाउंट एप्रूव करा लेना चाहिए। ताकि जब ज़रूरत हो तो आप ऐडसेंस की जगह Media.net ads का प्रयोग कर सकें।
बच्चे अपने शिक्षकों के साथ एक दिन में 6-7 घंटे बिताते हैं। इस समय के दौरान, शिक्षक बच्चों को न केवल शिक्षा और ज्ञान देते हैं, बल्कि ऐसा व्यक्ति बनाते हैं, जो नैतिक महत्व को स्थापित करे। जोकि विद्यार्थियों द्वारा गृहण किया जाता है। अधिकांश छात्र अपने शिक्षकों को अपना आदर्श मानते हैं। शिक्षक वह है जो अपने छात्रों को एक स्वरूप प्रदान करता है। शिक्षक शब्द अपमान के बदले सम्मान की भावना को प्रकट करता है। वर्तमान-दिनों के शिक्षक-छात्र संबंध को भी प्राचीन भारत के गुरु-शिष्य संबंध की तरह बनाने के लिए हर तरह के प्रयास किए जाने चाहिए।
इसलिए आज हम हमारे दोस्तों को ऑनलाइन इंटरनेट पर पैसा कैसे कमाते हैं के बारे में अच्छी-अच्छी जानकारी बताने वाले हैं | इस जानकारी के कारण शायद हर कोई जान सकेगा कि ऑनलाइन पैसा कैसे कमाया जाता है | हम देखते हैं कि बहुत सारे लोग इंटरनेट पर ऑनलाइन रिजल्ट देखते हैं, ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं, ऑनलाइन मोबाइल रिचार्ज करते हैं, या ऑनलाइन डिश रिचार्ज भी करते हैं |

Affiliate Marketing सुरु करने केलिए आपको कोई invest करने की जरुरत नहिं है. आप अपना पहला selling e-commerce sites जैसे Flipkart और Amazon से सुरु कर सकते है. उनके affiliate program में join करने के बाद आपको हर product का एक affiliate link मिलेगा. जो किओ भी user उस link से वो product खरीदेगा, आपको उसकी कुछ percent commission मिलेगा. आप ये link अपने blog, video, social media और email से share कर सकते हैं.
इसमें आपको hard work की नहीं बल्कि smart work की जरूरत होती है आप online field  में जितना ज्यादा smart work करेंगे उतना ही ज्यादा आपको फायदा मिलेगा और एक बात हमेशा आप को ध्यान में रखना होगा कि आपको online money earn करने के लिए आपको हमेशा self motivated  रहना होगा और शुरू में आप कभी भी पैसे के ऊपर ध्यान मत दे क्योंकि इससे आपका confidence नीचे जाता है और आप यह सोचने लगते हैं कि इसमें हमें किसी भी प्रकार का लाभ नहीं हो रहा है | हम इसे नहीं कर सकते हैं | तो आप इस बात का ध्यान रखें कि आप शुरू में सिर्फ अपने काम को करते जाएं और जैसे-जैसे आप इस काम को करेंगे वैसे वैसे आपका experience  बढ़ेगा और आप online field के एक experience player हो जाएंगे | उसके बाद हमें यह कहने की जरूरत नहीं है कि आप ऑनलाइन कितने पैसे कमा सकते हैं आप ऑनलाइन से unlimited money earn कर सकते हैं लेकिन आपको इसके लिए बहुत मेहनत करना पड़ेगा क्योंकि आजकल बहुत compettion है जिससे आपको आगे निकलना होगा तो इसके लिए मेहनत के साथ साथ smart work  करना जरूरी है |  
आप ब्लॉगिंग (Blogging) से साथ साथ अफिलीयेट मार्केटिंग से भी पैसे कमा सकते हैं. जब आप ब्लॉगिंग कर गूगल एड्सेंस (Google Adsense) से पैसे कमा सकते हैं तो अफिलीयेट (Affiliate marketing) आपके लिए इससे भी आसान होगा. क्यूंकी गूगल एड्सेंस से पैसे कमाने का मतलब है की आपके ब्लॉग मैं अच्छा ख़ासा ट्रॅफिक आता है. तो ऐसे में आप किस चीज़ का इंतजार कर सकते हैं जल्दी से टॉप अफिलीयेट नेटवर्क्स में अप्लाइ करें और अपने ब्लॉग में अफिलीयेट से पैसे कमायें. अफिलीयेट मतलब बिना इनवेस्टमेंट के पैसे कामना Online without Investment Paise Kaise Kamaye.
इन रिकॉर्ड्स में मेडिकल हिस्ट्री व फिजिकल रिपोर्ट, क्लिनिक रिपोर्ट, ऑफिस नोट्स, ऑपरेटिव नोट्स, कंसल्टेशन नोट्स, डिस्चार्ज समरी, मनोचिकित्सक आकलन, पैथोलॉजी-लैब रिपोर्ट व एक्सरे रिपोर्ट(Medical History, Physical Report, Clinical Report, Office Notes, Operative Notes, Consultation Notes, Discharge Summary, Psychiatrist Assessment, Pathological and Lab Reports and X-Ray Reports) इत्यादि शामिल हैं।
श्यामा ग्राम फतेहपुर, ब्लॉक विकासनगर, जिला देहरादून से संबंध रखती हैं। वह श्री त्रिलोक सिंह की विवाहिता है और एक हाउस-वाइफ (गृहस्वामिनी) है। श्यामा ऐसे गाँव में रहती हैं, जहाँ अशिक्षित होने के अलावा, महिलाओं को अपने पति की अनुमति के बिना अपने घरों से बाहर कदम रखने की भी अनुमति नहीं थी। यही हाल श्यामा का भी था, जिनके पति शराबी होने के कारण परिवार की बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए भी पर्याप्त पैसा नहीं कमा पाते थे। अपनी मर्जी से श्री त्रिलोक से शादी करने के कारण, श्यामा का परिवार भी उनकी आर्थिक मदद करने से पीछे हटा रहा। फिर, वह समय आया जब श्री त्रिलोक को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा और उसके परिवार के लिए सब कुछ टूट गया। स्थिति यहाँ तक ​​बिगड़ गई कि उन्हें अपने अस्तित्व के लिए अपना घर भी बेचना पड़ा। यहाँ तक ​​कि उनके बच्चों को स्कूल की फीस का भुगतान न कर पाने के कारण उन्हें स्कूलों से निकाल दिया गया।  
×