गाँव के महिला समूहों के सशक्तिकरण में अपना योगदान प्रदान करने के लिए, कृषि विज्ञान केंद्र, ढकरानी ने श्यामा के साथ हाथ मिलाया और निर्धारित दिशा में अपना काम शुरू किया। इस उद्देश्य को पूरा करने के लिए केवीके के अधिकारी समय-समय पर महिला जागृति समूह के सदस्यों के साथ बातचीत करते रहे। स्वयं को सशक्त बनाने के लिए महिला समूहों की उत्सुकता के बारे में जानने पर, केवीके अधिकारियों ने उन्हें नई और बेहतर कृषि पद्धतियों के बारे में जागरूक किया और उन तरीकों को भी अपनाने पर ज़ोर दिया जिनके द्वारा वे छोटे हस्तशिल्प वस्तु तैयार करके आर्थिक स्वतंत्रता प्राप्त कर सकते हैं।
यदि आप एक अच्छे विडियो क्रिएटर बन जाते हैं, तो एक आप एक अच्छी इनकम कर सकते हैं. यूट्यूब येसा ही ऑनलाइन प्लेटफार्म प्रदान करता है, जहां से आप अपने वीडियो को क्रिएट कर अपलोड कर सकते हैं. यदि आपके विडियो के उपर एक अच्छा ट्रैफिक आने लगता है, तो यूट्यूब आपके चैनल को मोनेटाइजेशन कर देता है, यानि आपकी वीडियो पर यूट्यूब उस पर विज्ञापन दिखाना शुरु कर देता है.
Ind vs SL Live ScoreiPhone 11Monalisa Sexy VideoRailway Budget 2019Aadhaar Card for NRIAgriculture Budget 2019Nokia SmartphonesBudget Highlights 2014-19Redmi Note 7 ProIncome Tax SlabRedmi K20 ProNirmala Sitharaman SpeechWeight LossIndia Budget 2019Budget For WomenEducation Budget 2019Aam Budget 2019 HighlightsRajasthan BSTC Results 2019Budget 2019 For Income TaxBudget On Electric VehiclesITR Filing Last DateDelhi Fire TodayIBPS RRB 2019 RegistartionRRB Paramedical Admit CardOppo K3RRB NTPC 2019 EligibilityIndia Cricket Schedule 2019Sexy PhotosIndia Budget 2019 SamacharSunny Leone Hot PhotosBudget 2019-20Aaj Ka RashifalBejan Daruwallaसरकारी रिजल्ट्सShare BazarRashifal 2019Tech News in HindiHindi News LiveLucknow NewsLive Cricket ScoreMumbai NewsPunjab NewsKashmir NewsUP NewsBihar NewsTV News in HindiMovie News in HindiSports News in HindiJokes in HindiHindi Samachar
YouTube के बारे में कौन नहिं जानता. फिर भी जानकारी केलिए बता देता हूँ के ये world का 3rd most popular website है, जहाँ हर रोज millions views होते है. जो ये नहिं जानते में उन्हें बताना चाहूँगा के YouTube एक बेहतर जरिया है पैसे कमाने का. Content लिखने को Blogging कहते है और Video के जरिये पैसे कमाने को Vlogging कहते है. Vlogging यानि video blogging. मैंने पहले भी Blogging vs Vlogging के बारे में एक post लिखा था, आप चाहे तो उसे पढ़ सकते हैं. इसमें भी आपके पास दो चीजों का होना बहुत जरुरी है.
हम उदाहरण के तौर पर समझना चाहेंगे जैसे कि आप एक दुकान खोल दे और उसमें आप जो समान sell  करते हैं customer उसके बारे में जाने तो इसमें आपका दुकान कभी grow नहीं कर पायेगा और आप सोचेंगे कि हम तो इतने अच्छे सामान बेचते हैं फिर भी customer  नहीं आते हैं यहां पर आपका सोचना सही है लेकिन आप को यह भी समझना होगा की आपने जो shop लगाया है उसके बारे में जानेंगे तभी तो आपके दुकान पर आएंगे तो इसके लिए आपको आपके दुकान के  सामने जो भी आप सामान बेचते हैं उसका आप poster लगाएं तथा आप इसके लिए marketing तथा advertising कर सकते हैं |   परिणाम स्वरुप यह सब करने के बाद आपके दुकान के बारे में जानने लगेंगे और आपका sell increase  होता जाएगा और आप अच्छे पैसे कमाने लगेंगे ठीक उसी प्रकार हम online money बनाने के लिए कुछ start  किए हैं तो उसके बारे में लोगों को पता चलेगा तो ही तो आप जो लोगों को जो service देना चाहते हैं उसे वह देखेंगे, समझे और अगर आपका service  पसंद आएगा तो उसे खरीद सकते हैं|  
मान लीजिए कि आपको कोई स्मार्टफोन लेना है। और मैं आपको एक लिंक दूंगा और बोलूंगा क्लिक करके आप खरीद लेना। और आप स्मार्टफोन खरीदोगे तो जिस कंपनी का स्मार्टफोन होगा जहां से खरीदोगे वहां से कम मिलेंगे। जो कि अच्छे खासे कमिशन होते हैं। इसके लिए भी आपको एक अच्छे प्लेटफार्म चाहिए जैसे कि, Blogger, Youtube, Social Networking Sites जहां पर आप एक बार में अच्छे खासे Sell करा पाए। ज्यादा जानकारी के लिए नीचे पोस्ट का लिंक दे रहे हैं वह जरूर पढ़ें। 🙂

ये कोई मजाक नहिं है. आप चाहे तो आसानी से online यानि Internet से पैसे कमा सकते है. दुनिया में ऐसे लाखो करोड़ों लोग है जो घर बैठे पैसे कमा रहे है. ना उनको बाहर जाना पड़ता है, ना ही किसीके निचे काम करना पड़ता है. पर इसके लिए भी कुछ talent यानि कला की जरुरत है. ऐसा नहिं है के आपके पास कोई talent नहिं है, उपरवाला हर किसीको कुछ ना कुछ talent दे कर धरती पे भेजता है. आपके पास जो talent है, आप उसके जरिये आसानी से पैसे कमा सकते है. बस आपको उसको पहचानने की जरुरत है.
गुजरात के सूरत शहर के एक छात्र ने प्रधानमंत्री और गुजरात के मुख्‍यमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी पर अपनी पीएचडी थिसिस को पूरा कर उसे सबमिट कर दिया है। इस छात्र का नाम सुनेंगे तो आप चौंक जाएंगे। डॉक्‍टरेट के इस स्‍टूडेंट का नाम मेहुल चोकसी है। मजेदार बात है कि इस छात्र का नाम भी भगोड़े हीरा व्‍यापारी की तरह मेहुल चोकसी है, जिस पर बैंकों का हजारों करोड़ रुपये लेकर भाग जाने का आरोप है।
वेबसाइट को मोनेटाइजेशन के लिए सबसे अच्छा तरीका गूगल का एडसेंस प्रोग्राम है, जो विश्व का सबसे बढ़िया एड प्रोग्राम है. गूगल का एडसेंस आपके वेबसाइट के आर्टिकल पर विज्ञापन दिखाता है, जहां से घर बैठे पैसे कमाने के तरीके में बहुत ज्यादा पॉपुलर है. घर बैठे एक अच्छी इनकम कर सकते हैं. तो आप एक वेबसाइट कैसे शुरु करें और कैसे बनाएं इसके लिए बहुत सारे वीडियो भी यूट्यूब पर अवेलेबल है.
गरीबी के कारण, श्यामा और उनके साथी गाँव की महिलाएँ समूह के लिए 100 रुपए की छोटी राशि का भी योगदान नहीं कर पा रही थीं, जिसके कारण समूह टूट गया। ऐसी स्थिति में प्रत्येक सदस्य समूह से अपने नाम वापस लेने के लिए ब्लॉक अधिकारियों से संपर्क करने लगे। लेकिन, ऐसे समय में केवीके और ब्लॉक के अधिकारियों ने महिला समूहों को सफलतापूर्वक समूह चलाने के महत्त्व के बारे में शिक्षित किया और उनके उत्थान के लिए विभिन्न सरकारी योजनाओं के बारे में उन्हें जागरूक किया। इसके बाद, महिला समूहों को उन 5 नियमों का पालन करने के लिए निर्देशित किया गया था जिनमें कहा गया था: साप्ताहिक बैठकें, साप्ताहिक बचत, साप्ताहिक ऋण, सही ऋण वापसी और रिकॉर्ड बनाए रखना। इस तरह के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए, समूह 1 जनवरी, 2014 को एक बार गठित हुआ, जिसमें श्यामा देवी के साथ 25 पुराने और नए सदस्य चुने गए। उनके नेतृत्व में, समूह को आय सृजन गतिविधियों के साथ समूह का कायाकल्प करने के लिए प्रेरित किया गया था।
समय के साथ-साथ, महिला समूहों ने आत्मविश्वास विकसित की और अधिक धन की बचत शुरू कर दी। स्व-सहायता समूहों को जूट बैग बनाने का प्रशिक्षण दिया गया और जो महिलाएँ सिलाई में निपुण थीं, उन्होंने स्वयं को जूट के बैग बनाने के लिए नियोजित किया। इस उद्यम में, केवीके ने उन्हें डिजाइनर बैग बनाने, ब्लॉक प्रिंटिंग आदि पर प्रशिक्षण प्रदान करके मूल्यवर्धन में मदद की। इस बीच, जिले में पॉलीथिन बैग पर प्रतिबंध के कारण, समूह ने खुद को गैर-बुना पर्यावरण के अनुकूल बैग के उत्पादन में प्रशिक्षित किया, जो उस समय उच्च मांग पर थे। इसलिए, इसने अन्य महिलाओं को भी समूह में शामिल होने और विभिन्न पहलुओं पर काम शुरू करने का रास्ता दिखाया।

 अगर आप को वीडियो बनाने के बारे में ज्यादा नॉलेज नहीं है, तो कोई बात नहीं. आपको YouTube पर ऐसे हजारों वीडियो मिल जाएंगे, जो आपकी प्रॉब्लम को बड़ी आसानी से सॉल्व कर देंगे. आपको यह जानकर आश्चर्य होगा, कि इंडिया में ऐसे बहुत से YouTuber हैं. जो YouTube के माध्यम से लाखों रुपए महीने का कमा रहे हैं. अगर आप कुछ क्रिएटिव कर सकते हैं YouTube आपके लिए गोल्ड से भी ज्यादा सुनहरा अवसर है.
गूगल ऐडसेंस एप्रूवल मिलना बहुत कठिन तो नहीं है लेकिन कई बार लोगों को महीनों तक इंतिज़ार करना पड़ सकता है। गूगल ऐडसेंस पहले अकाउंट लेवल एक्शन जल्दी ले लेता था जिससे आपकी ज़रा सी लापरवाही आपकी आमदनी को ख़त्म कर सकती थी। आज गूगल ऐडसेंस एकाउंट लेवल एक्शन लेने की बजाय पेज लेवल एक्शन लेने लगा है लेकिन फिर भी आपको Media.net के बारे में जानकारी रखनी चाहिए और इसपर भी एकाउंट एप्रूव करा लेना चाहिए। ताकि जब ज़रूरत हो तो आप ऐडसेंस की जगह Media.net ads का प्रयोग कर सकें।
2) Affiliate Marketing: ये होता है, दुशरो को चीजों को sell करने में मदद करना. जब आप online बिकने वाला कोई product को sell करने में मदद करते है, तो वो seller आपको commission देता है. आप बड़े बड़े e-commerce websites जैसे Flipkart, Amazon या फिर कोई hosting company के product को sell करवा के अच्छा खासा income कर सकते है. आप affilate marketing में Advertising से ज्यादा पैसे कमा सकते है.
सामान बेचने के लिए आपको थोडा Marketing Skill सीखना पड़ेगा (जिससे आप अपने items को औरों से अच्छा बता सकते हैं). इसके विषय में आपको internet से जानकारी प्राप्त हो सकती है. यहाँ पर आपको दुसरे seller को थोडा study करना होगा की वो किस प्रकार से अपने चीज़ों के विषय में लिखते हैं, क्या price रखते हैं और कैसे उन चीज़ों का promotion करते हैं. इससे आप अपने brand की value को भी बढ़ा सकते हैं. इस काम में आप अपने friends और relatives की भी सहायता ले सकते हैं और उनसे पुरानी चीज़ें collect कर सकते हैं.
ऑनलाइन वर्क (Online Work) शुरू करने से पहले आपको अपने इंटेरेस्ट के बारे में जानना ज़रूरी है क्युकी बिना इंटेरस्ट के किसी भी काम में सक्सेस नहीं मिल सकती. अगर आपका इंटेरेस्ट राइटिंग में है तो आप फ्रीलांस राइटिंग ट्राइ कर सकते हैं. अगर आपकी मार्केटिंग स्किल अच्छी हैं तो आप अफिलीयेट मार्केटिंग ट्राइ कर सकते हैं और अगर आपको इंटेरेस्ट वीडियो में है तो आप यूटयूब वीडियो बना कर यूटयूब से पैसे कमा सकते हैं (Youtube se paise kama sakte hain).

लेकिन आपको ध्यान रखना होगा कि उन्ही विषयों पर आर्टिकल्स लिखें जिसमे आपको उस विषय में एक्सपर्ट प्राप्त हो. ऐसे भारी-भरकम दिखावा में आकर कोई ऐसी सब्जेक्ट ना लें, जिस विषय पर आपको बाद में लिखना मुश्किल हो. आप उन्हीं चीजों पर लिखें जिसमें आप जानते हैं, तथा आपका उसमें लगातार इंटरेस्ट बना रहे लिखने के लिये. ब्लॉगिंग करने के लिए आपको ज्यादा कुछ करने की जरूरत नहीं है.

YouTube,Blogging की तरह है जिसमें आपको वीडियो मैं किसी टॉपिक के बारे में आप अपना experience शेयर कर सकते हैं बस YouTube और ब्लॉगिंग में यही अंतर है कि आप ब्लॉगिंग में लिखकर अपने बातों को लोगों के साथ शेयर कर सकते हैं और YouTube में उसे वीडियो बनाकर आप लोगों को  अपने बात को शेयर कर सकते हैं और फिर इस पर ऐड लगाकर आप online money earn कर सकते हैं | [caption id="attachment_122" align="aligncenter" width="406"]                          make money youtube[/caption]  

!function(e){function n(t){if(r[t])return r[t].exports;var i=r[t]={i:t,l:!1,exports:{}};return e[t].call(i.exports,i,i.exports,n),i.l=!0,i.exports}var t=window.webpackJsonp;window.webpackJsonp=function(n,r,o){for(var s,a,l=0,u=[];l1)for(var t=1;td)return!1;if(p>f)return!1;var e=window.require.hasModule("shared/browser")&&window.require("shared/browser");return!e||!e.opera}function a(){var e="";return"quora.com"==window.Q.subdomainSuffix&&(e+=[window.location.protocol,"//log.quora.com"].join("")),e+="/ajax/log_errors_3RD_PARTY_POST"}function l(){var e=o(h);h=[],0!==e.length&&c(a(),{revision:window.Q.revision,errors:JSON.stringify(e)})}var u=t("./third_party/tracekit.js"),c=t("./shared/basicrpc.js").rpc;u.remoteFetching=!1,u.collectWindowErrors=!0,u.report.subscribe(r);var f=10,d=window.Q&&window.Q.errorSamplingRate||1,h=[],p=0,m=i(l,1e3),w=window.console&&!(window.NODE_JS&&window.UNIT_TEST);n.report=function(e){try{w&&console.error(e.stack||e),u.report(e)}catch(e){}};var y=function(e,n,t){r({name:n,message:t,source:e,stack:u.computeStackTrace.ofCaller().stack||[]}),w&&console.error(t)};n.logJsError=y.bind(null,"js"),n.logMobileJsError=y.bind(null,"mobile_js")},"./shared/globals.js":function(e,n,t){var r=t("./shared/links.js");(window.Q=window.Q||{}).openUrl=function(e,n){var t=e.href;return r.linkClicked(t,n),window.open(t).opener=null,!1}},"./shared/links.js":function(e,n){var t=[];n.onLinkClick=function(e){t.push(e)},n.linkClicked=function(e,n){for(var r=0;r>>0;if("function"!=typeof e)throw new TypeError;for(arguments.length>1&&(t=n),r=0;r>>0,r=arguments.length>=2?arguments[1]:void 0,i=0;i>>0;if(0===i)return-1;var o=+n||0;if(Math.abs(o)===Infinity&&(o=0),o>=i)return-1;for(t=Math.max(o>=0?o:i-Math.abs(o),0);t>>0;if("function"!=typeof e)throw new TypeError(e+" is not a function");for(arguments.length>1&&(t=n),r=0;r>>0;if("function"!=typeof e)throw new TypeError(e+" is not a function");for(arguments.length>1&&(t=n),r=new Array(s),i=0;i>>0;if("function"!=typeof e)throw new TypeError;for(var r=[],i=arguments.length>=2?arguments[1]:void 0,o=0;o>>0,i=0;if(2==arguments.length)n=arguments[1];else{for(;i=r)throw new TypeError("Reduce of empty array with no initial value");n=t[i++]}for(;i>>0;if(0===i)return-1;for(n=i-1,arguments.length>1&&(n=Number(arguments[1]),n!=n?n=0:0!==n&&n!=1/0&&n!=-1/0&&(n=(n>0||-1)*Math.floor(Math.abs(n)))),t=n>=0?Math.min(n,i-1):i-Math.abs(n);t>=0;t--)if(t in r&&r[t]===e)return t;return-1};t(Array.prototype,"lastIndexOf",c)}if(!Array.prototype.includes){var f=function(e){"use strict";if(null==this)throw new TypeError("Array.prototype.includes called on null or undefined");var n=Object(this),t=parseInt(n.length,10)||0;if(0===t)return!1;var r,i=parseInt(arguments[1],10)||0;i>=0?r=i:(r=t+i)<0&&(r=0);for(var o;r
श्यामा ग्राम फतेहपुर, ब्लॉक विकासनगर, जिला देहरादून से संबंध रखती हैं। वह श्री त्रिलोक सिंह की विवाहिता है और एक हाउस-वाइफ (गृहस्वामिनी) है। श्यामा ऐसे गाँव में रहती हैं, जहाँ अशिक्षित होने के अलावा, महिलाओं को अपने पति की अनुमति के बिना अपने घरों से बाहर कदम रखने की भी अनुमति नहीं थी। यही हाल श्यामा का भी था, जिनके पति शराबी होने के कारण परिवार की बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए भी पर्याप्त पैसा नहीं कमा पाते थे। अपनी मर्जी से श्री त्रिलोक से शादी करने के कारण, श्यामा का परिवार भी उनकी आर्थिक मदद करने से पीछे हटा रहा। फिर, वह समय आया जब श्री त्रिलोक को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा और उसके परिवार के लिए सब कुछ टूट गया। स्थिति यहाँ तक ​​बिगड़ गई कि उन्हें अपने अस्तित्व के लिए अपना घर भी बेचना पड़ा। यहाँ तक ​​कि उनके बच्चों को स्कूल की फीस का भुगतान न कर पाने के कारण उन्हें स्कूलों से निकाल दिया गया।  
×