अगर ब्लॉगिंग और YouTube का कंपैरिजन किया जाए. तो मैं आपको Highly Recommend करूंगा, कि आप YouTube को ही सिलेक्ट करें. क्योंकि अगर आप ब्लॉगिंग चुनते हैं, तो आप को बहुत सी टेक्निकल चीजों को समझने की जरूरत होती है. जिसको सीखने में बहुत सारा टाइम लगता है. अगर मैं अपनी बात करूं तो मैं लगभग last 2 साल से ब्लॉगिंग सीख  रहा हूं. तब जाके अब कहीं ब्लॉगिंग को समझ पाया हूँ.
चोकसी ने वर्ष 2010 में नरेंद्र मोदी के गुजरात के सीएम रहने के दौरान अपने पीएचडी की शुरुआत की थी। उन्‍होंने बताया कि शुरुआती दौर में मोदी के सफल नेतृत्‍व को लेकर सवाल पूछे तो 51 फीसदी का जवाब सकारात्‍मक रहा। वहीं 34.25 फीसदी लोगों ने ना में जवाब दिया। इस दौरान 46.75 फीसदी लोगों ने कहा कि नेताओं को ऐसे फैसले लेने चाहिए जिससे लोगों का भला हो। इससे नेताओं की लोकप्रियता बढ़ती है।
These articles, the information therein and their other contents are for information purposes only. All views and/or recommendations are those of the concerned author personally and made purely for information purposes. Nothing contained in the articles should be construed as business, legal, tax, accounting, investment or other advice or as an advertisement or promotion of any project or developer or locality. Makaan.com does not offer any such advice. No warranties, guarantees, promises and/or representations of any kind, express or implied, are given as to (a) the nature, standard, quality, reliability, accuracy or otherwise of the information and views provided in (and other contents of) the articles or (b) the suitability, applicability or otherwise of such information, views, or other contents for any person’s circumstances.
YouTube,Blogging की तरह है जिसमें आपको वीडियो मैं किसी टॉपिक के बारे में आप अपना experience शेयर कर सकते हैं बस YouTube और ब्लॉगिंग में यही अंतर है कि आप ब्लॉगिंग में लिखकर अपने बातों को लोगों के साथ शेयर कर सकते हैं और YouTube में उसे वीडियो बनाकर आप लोगों को  अपने बात को शेयर कर सकते हैं और फिर इस पर ऐड लगाकर आप online money earn कर सकते हैं | [caption id="attachment_122" align="aligncenter" width="406"]                          make money youtube[/caption]  
हर कोई चाहता है पैसे कमाना. इसीलिए लोग Google में हर रोज ये search करते रहते है के, “ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए“, “गूगल से पैसे कैसे कमाए“, “इंटरनेट से पैसे कैसे कमाए“, etc. लोगो को पैसे इसीलिए चाहिए, ताकि उनसे वो अपनी ज़रुरतो को पूरी कर सके. उम्र बढ़ने के साथ साथ एक ज़िम्मेदारी भी आ जाता है और अगर आप अभी से पैसे कमाने के तरीके के बारे में जान लेते है तो आपका तो चांदी ही चांदी है. लोग बहुत तरीको से पैसे कमाते है, जैसे job करके, अपने खुद का business start करके, या फिर online से. आप ये सोच रहे होंगे के How to make money Online? क्या ये सम्भब है, या फिर में मजाक कर रहा हूँ.

गाँव के महिला समूहों के सशक्तिकरण में अपना योगदान प्रदान करने के लिए, कृषि विज्ञान केंद्र, ढकरानी ने श्यामा के साथ हाथ मिलाया और निर्धारित दिशा में अपना काम शुरू किया। इस उद्देश्य को पूरा करने के लिए केवीके के अधिकारी समय-समय पर महिला जागृति समूह के सदस्यों के साथ बातचीत करते रहे। स्वयं को सशक्त बनाने के लिए महिला समूहों की उत्सुकता के बारे में जानने पर, केवीके अधिकारियों ने उन्हें नई और बेहतर कृषि पद्धतियों के बारे में जागरूक किया और उन तरीकों को भी अपनाने पर ज़ोर दिया जिनके द्वारा वे छोटे हस्तशिल्प वस्तु तैयार करके आर्थिक स्वतंत्रता प्राप्त कर सकते हैं।
मैंने यहाँ यूट्यूब से पैसे कमाने के जितने भी तरीकों के बारे में आपको जानकारी दिए हैं | आज के समय में यह यूट्यूब से पैसे कामाने में सबसे ज्यादा लोग उपयोग करते हैं और इसलिए यह सभी आईडिया 100% सही है | लेकिन इसे करना इतना आसान नही है और न ही इतना मुश्किल कि आप इसे कर न पायें | अगर आप यूट्यूब से पैसे ऑनलाइन घर बैठे कमाना चाहते है तो इन्हें इस्तेमाल करके जरुर कोशिश कीजिये और अगर आपको मुझसे कोई मदद इस से सम्बंधित चाहिए तो आप मुझसे संपर्क कर सकते हैं |
श्यामा ग्राम फतेहपुर, ब्लॉक विकासनगर, जिला देहरादून से संबंध रखती हैं। वह श्री त्रिलोक सिंह की विवाहिता है और एक हाउस-वाइफ (गृहस्वामिनी) है। श्यामा ऐसे गाँव में रहती हैं, जहाँ अशिक्षित होने के अलावा, महिलाओं को अपने पति की अनुमति के बिना अपने घरों से बाहर कदम रखने की भी अनुमति नहीं थी। यही हाल श्यामा का भी था, जिनके पति शराबी होने के कारण परिवार की बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए भी पर्याप्त पैसा नहीं कमा पाते थे। अपनी मर्जी से श्री त्रिलोक से शादी करने के कारण, श्यामा का परिवार भी उनकी आर्थिक मदद करने से पीछे हटा रहा। फिर, वह समय आया जब श्री त्रिलोक को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा और उसके परिवार के लिए सब कुछ टूट गया। स्थिति यहाँ तक ​​बिगड़ गई कि उन्हें अपने अस्तित्व के लिए अपना घर भी बेचना पड़ा। यहाँ तक ​​कि उनके बच्चों को स्कूल की फीस का भुगतान न कर पाने के कारण उन्हें स्कूलों से निकाल दिया गया।  

URL Shortener का मतलब होता है किसी भी URL को short या छोटा कर देना. अब आप सोच रहे होंगे की URL को short करने की क्या जरुरत है और इससे पैसे कैसे कमाया जा सकता है. वैसे आपका सोचना भी बिलकुल ही जायज है. तब इसका जवाब है की लम्बे और बड़े URL किसी को भी पसंद नहीं होते हैं. ऐसे में अगर आप किसी के साथ कोई Link share करना भी चाहें तब भी आपको बड़े URL से जरुर घृणा होगी. ऐसे में URL Shortener बहुत ही ज्यादा काम आते हैं.
सबसे पहले आपको Media.net की वेबसाइट पर जाकर अपनी वेबसाइट, फोन नम्बर और ईमेल पता भरकर इंविटेशन प्राप्त करना होगा। जब आपको इंविटेशन मिल जाए तो अपना सभी जानकारी सही सही भर दें। फिर आपको अकाउंट एप्रूवल मिल जाएगा जिसकी जानकारी आपका अकाउंट मैनेजर आपको देगा। इसके बाद अपनी Media.net पर Login कर सकते हैं। इसके बाद आप नए ऐड यूनिट बनाकर अपनी वेबसाइट थीम के अनुसार ऑप्टिमाइज़ कर सकते हैं और अपने ब्लॉग पर विज्ञापन लगाकर कमाई शुरु कर सकते हैं।

आज की इस ऑनलाइन लाइफस्टाइल में इंटरनेट यूजर्स की संख्या बहुत ही तेज़ी से बढ़ी है और ऑनलाइन शॉपिंग से लेकर ऑनलाइन बिजनेस करने तक के ढेरों विकल्प अब हमारे सामने आ गये हैं। इसका सबसे बड़ा फायदा ये है कि अगर आपके पास एक यूनिक आईडिया है तो आप अपना ऑनलाइन बिजनेस बड़ी आसानी से शुरू कर सकते हैं और इस ऑनलाइन बिजनेस में कम इन्वेस्टमेंट के बावजूद भी आप कुछ ही समय में एक अच्छा अमाउंट कमा सकते हैं। ऐसे में आज बात करते हैं ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं और इसके लिए कौनसे विकल्प मौजूद हैं।


ये थे कुछ “Internet se paise kamane ke tarike in Hindi“. आशा करता हूँ आपको घर बैठे इन्टरनेट से ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए से related कुछ जानकारी मिल गए होंगे. मैं इसी post में आगे ऐसे बहुत सारे आसान तरीको के बारे में update करता रहूँगा, जिससे आप आसानी से online पैसे कमा सकते हैं. आप चाहे तो इस page को bookmark कर लीजिये और अपना सुझाब निचे comment करना ना भूलें. आपको यह लेख इन्टरनेट से पैसे कैसे कमाए कैसा लगा हमें comment लिखकर जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले. मेरे पोस्ट के प्रति अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये.
यूट्यूब पर बहुत सारे लोग दूसरों का मनोरंजन होने के लिए विभिन्न वीडियोस बनाते हैं और यूट्यूब पर अपलोड करते हैं | कई बार बहुत सारे वीडियोस ऐसे होते हैं जो बेहतरीन होने के कारण ट्रेंडिंग पर आ जाते हैं | जो वीडियो ट्रेंडिंग पर होता है उस वीडियो के कारण उस चैनल का मालिक आसानी से लाखों रुपए कमा लेता है, यूट्यूब पर काम करते समय आपका मनोरंजन होने के साथ-साथ आपको शोहरत भी मिलती है |

UC News पर आप में बहुत से लोग न्यूज़ पढ़ने के लिए जाते होंगे. लेकिन आपको शायद यह नहीं पता होगा कि  UC न्यूज़ से आप अच्छी इनकम भी कर सकते हैं. अगर आप एक अच्छे राइटर हैं और आप UC News के लिए 300 से 400 शब्द के आर्टिकल आसानी से लिख सकते हैं. तो आप UC News पर न्यूज़ आर्टिकल लिख कर पैसे कमा सकते हैं. पैसे कमाने के लिए सबसे पहले आपको UC न्यूज पर अकाउंट बनाना पड़ता है और आपको UC न्यूज़ टाइप के आर्टिकल पब्लिश करने पढ़ते हैं.
यह सिर्फ एक ही नहीं बल्कि कई कारकों का संयोजन है जो इस परिवर्तन को उत्पन्न करने का कारण है। आजकल, शिक्षण अब एक कर्तव्य नहीं, बल्कि पैसा कमाने का स्त्रोत बन गया है। स्कूलों और कॉलेजों के बाद शिक्षक निजी ट्यूशन (शिक्षण) केन्द्र चलाते हैं और ट्यूशन की कक्षाओं में प्रवेश लेने के लिए छात्रों को उकसाते भी हैं। यह सबसे सम्मानित शिक्षक-छात्र संबंधों को भी अपमानित कर रहा है, क्योंकि पैसा हमारे चरित्र को गंदा कर देता है। हम सब पैसे के पीछे भाग रहे हैं इसलिए शिक्षक भी ऐसा ही करते हैं। स्कूलों में उन्हें अच्छा पैसा नहीं दिया जाता है, इसलिए उन्हें ट्यूशन लेने के अतिरिक्त कोई दूसरा विकल्प दिखाई नहीं पड़ता है। इसके साथ ही, ग्रामीण स्कूलों और कुछ शहरी विद्यालयों की बुनियादी सुविधाओं की गुणवत्ता बहुत ही अनैतिक हो गई है। सुविधाओं की कमी इस समस्या को और बढ़ावा दे रही है। इसे रोकने के लिए, शिक्षकों को अच्छा पैसा दिया जाना चाहिए और बुनियादी सुविधाओं की गुणवत्ता में सुधार किया जाना चाहिए या प्रत्येक स्कूल को एक ही स्तर पर लाया जाना चाहिए।
×