हार्ड वर्क और स्मार्ट वर्क दोनों एक साथ साइट पर अगर आप करते हो तो आसानी से गूगल आपकी साइट ऊपर ले जाएगा | जैसे जैसे आपकी साइट ऊपर जाएगी वैसे-वैसे आपके साईट पर विजिटर्स की संख्या बढ़ेगी, आपके साइट पर जितने ज्यादा विजिटर्स होंगे उतने ज्यादा विजिटर्स आपके साइट पर मौजूद गूगल ऐडसेंस की ऐड पर क्लिक करेंगे जिससे ऑटोमेटिक आपको पैसा मिलेगा | गूगल ऐडसेंस का प्रोग्राम लेने के लिए गूगल ऐडसेंस का अकाउंट होना जरूरी होता है जिससे ज्यादा से ज्यादा पोस्ट आपके साइट पर आएगी और आप डॉलर में पैसा कमाने लग जाओगे |
 अगर आप ब्लॉगिंग करना चाहते हैं. तो आप blogger blog से शुरू करिए. जो कि एकदम free of cost है. जब आप अच्छा कमाने लग जाए और आपको एक्स्ट्रा फीचर्स की जरूरत पढ़े तो आप wordpress पर शिफ्ट कर जाएं. जो कि ब्लॉगिंग का paid Platform है. जहां पर आपको कई एडवांस फीचर मिल जाएंगे जो आपके ब्लॉगिंग एक्सपीरियंस को काफी आसान बना देंगे. अगर आप ब्लॉगिंग के बारे में अधिक जानकारी चाहते हैं तो रवि भाई के ब्लॉग anytechinfo पर विजिट कर सकते हैं.

इंटरनेट से पैसे कमाना चाहते हैं। वह भी ऑनलाइन तो ब्लॉगिंग जो है No-1 पर आता है। यह बहुत अच्छा प्लेटफार्म में बहुत ही जल्दी इसमें अच्छे पैसे कमा सकते हैं। ब्लॉगिंग में क्या करना होता है कि, अगर आपके पास Wrtting Skills है। तो आप अच्छे से इसमें पोस्ट लिखकर अच्छे खासे पैसे कमा सकते हैं। ब्लॉगिंग में अगर पैसे इन्वेस्टमेंट की बात करें तो बहुत कम इन्वेस्ट होता है। और जब पैसे आने लगते हैं। तो काफी अच्छे खासे पैसे आने लगते हैं। 🙂
ऑनलाइन बुक राइटिंग – पहले जहाँ बुक लिखकर पब्लिश करवाना किसी टेढ़ी खीर जैसा मुश्किल लगता था वहीँ आज इंटरनेट के इस दौर में अगर आप अपनी बुक लिखना चाहते हैं तो बिना किसी खर्च के किसी भी ई बुक पब्लिशिंग वेबसाइट पर फ्री में अपनी ई-बुक पब्लिश करके ऑनलाइन बेच सकते हैं। अमेज़न, फ्लिपकार्ट, ईबे जैसी ई-कॉमर्स वेबसाइट पर ई -बुक्स को बड़ी आसानी से बेचा जा सकता है।

(function(){"use strict";function s(e){return"function"==typeof e||"object"==typeof e&&null!==e}function a(e){return"function"==typeof e}function l(e){X=e}function u(e){G=e}function c(){return function(){r.nextTick(p)}}function f(){var e=0,n=new ne(p),t=document.createTextNode("");return n.observe(t,{characterData:!0}),function(){t.data=e=++e%2}}function d(){var e=new MessageChannel;return e.port1.onmessage=p,function(){e.port2.postMessage(0)}}function h(){return function(){setTimeout(p,1)}}function p(){for(var e=0;et.length)&&(n=t.length),n-=e.length;var r=t.indexOf(e,n);return-1!==r&&r===n}),String.prototype.startsWith||(String.prototype.startsWith=function(e,n){return n=n||0,this.substr(n,e.length)===e}),String.prototype.trim||(String.prototype.trim=function(){return this.replace(/^[\s\uFEFF\xA0]+|[\s\uFEFF\xA0]+$/g,"")}),String.prototype.includes||(String.prototype.includes=function(e,n){"use strict";return"number"!=typeof n&&(n=0),!(n+e.length>this.length)&&-1!==this.indexOf(e,n)})},"./shared/require-global.js":function(e,n,t){e.exports=t("./shared/require-shim.js")},"./shared/require-shim.js":function(e,n,t){var r=t("./shared/errors.js"),i=(this.window,!1),o=null,s=null,a=new Promise(function(e,n){o=e,s=n}),l=function(e){if(!l.hasModule(e)){var n=new Error('Cannot find module "'+e+'"');throw n.code="MODULE_NOT_FOUND",n}return t("./"+e+".js")};l.loadChunk=function(e){return a.then(function(){return"main"==e?t.e("main").then(function(e){t("./main.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"dev"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("dev")]).then(function(e){t("./shared/dev.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"internal"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("internal"),t.e("qtext2"),t.e("dev")]).then(function(e){t("./internal.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"ads_manager"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("ads_manager")]).then(function(e){t("./ads_manager/main.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"publisher_dashboard"==e?t.e("publisher_dashboard").then(function(e){undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"content_widgets"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("content_widgets")]).then(function(e){t("./content_widgets.iframe.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):void 0})},l.whenReady=function(e,n){Promise.all(window.webpackChunks.map(function(e){return l.loadChunk(e)})).then(function(){n()})},l.installPageProperties=function(e,n){window.Q.settings=e,window.Q.gating=n,i=!0,o()},l.assertPagePropertiesInstalled=function(){i||(s(),r.logJsError("installPageProperties","The install page properties promise was rejected in require-shim."))},l.prefetchAll=function(){t("./settings.js");Promise.all([t.e("main"),t.e("qtext2")]).then(function(){}.bind(null,t))["catch"](t.oe)},l.hasModule=function(e){return!!window.NODE_JS||t.m.hasOwnProperty("./"+e+".js")},l.execAll=function(){var e=Object.keys(t.m);try{for(var n=0;n=c?n():document.fonts.load(u(o,'"'+o.family+'"'),a).then(function(n){1<=n.length?e():setTimeout(t,25)},function(){n()})}t()});var w=new Promise(function(e,n){l=setTimeout(n,c)});Promise.race([w,m]).then(function(){clearTimeout(l),e(o)},function(){n(o)})}else t(function(){function t(){var n;(n=-1!=y&&-1!=g||-1!=y&&-1!=v||-1!=g&&-1!=v)&&((n=y!=g&&y!=v&&g!=v)||(null===f&&(n=/AppleWebKit\/([0-9]+)(?:\.([0-9]+))/.exec(window.navigator.userAgent),f=!!n&&(536>parseInt(n[1],10)||536===parseInt(n[1],10)&&11>=parseInt(n[2],10))),n=f&&(y==b&&g==b&&v==b||y==x&&g==x&&v==x||y==j&&g==j&&v==j)),n=!n),n&&(null!==_.parentNode&&_.parentNode.removeChild(_),clearTimeout(l),e(o))}function d(){if((new Date).getTime()-h>=c)null!==_.parentNode&&_.parentNode.removeChild(_),n(o);else{var e=document.hidden;!0!==e&&void 0!==e||(y=p.a.offsetWidth,g=m.a.offsetWidth,v=w.a.offsetWidth,t()),l=setTimeout(d,50)}}var p=new r(a),m=new r(a),w=new r(a),y=-1,g=-1,v=-1,b=-1,x=-1,j=-1,_=document.createElement("div");_.dir="ltr",i(p,u(o,"sans-serif")),i(m,u(o,"serif")),i(w,u(o,"monospace")),_.appendChild(p.a),_.appendChild(m.a),_.appendChild(w.a),document.body.appendChild(_),b=p.a.offsetWidth,x=m.a.offsetWidth,j=w.a.offsetWidth,d(),s(p,function(e){y=e,t()}),i(p,u(o,'"'+o.family+'",sans-serif')),s(m,function(e){g=e,t()}),i(m,u(o,'"'+o.family+'",serif')),s(w,function(e){v=e,t()}),i(w,u(o,'"'+o.family+'",monospace'))})})},void 0!==e?e.exports=a:(window.FontFaceObserver=a,window.FontFaceObserver.prototype.load=a.prototype.load)}()},"./third_party/tracekit.js":function(e,n){/**
नई दिल्ली, 7 जनवरी 2018- आजकल मोबाइल और इंटरनेट का जमाना है. हर कोई बिना मोबाइल और इंटरनेट के नही रह पता है. हर एक चीज़ मोबाइल से ही हो जाती है. जहाँ पहले के समय में हर कोई लंबी लंबी लाइन में लग कर बिजली बिल (Electricity bill online payment), फोन के बिल, पानी के बिल (Pay water bill online) यार फिर कोई सरकारी काम करना हो सभी का बहुत ज़्यादा टाइम बर्बाद होता था. आजकल मोबाइल और इंटरनेट के आ जाने से सभी का समय और पैसा बच जाता है. हर दिन 24 घंटों में बहुत सारा टाइम मोबाइल और इंटरनेट में ही चलाजाता है. WhatsApp या Facebook या फिर youtube हर कोई उसे करता है.
किराए के आवास के लिए अपने घर की खोज के दौरान, आप कई कारकों पर विचार करते हैं। आप कितने अच्छे क्षेत्र की जांच करते हैं; आप अपने कार्यालय से घर की दूरी की गणना करते हैं; आप ध्यान दें कि सामाजिक बुनियादी ढांचा पर्याप्त है; और, आप निश्चित रूप से हर पैसा भरते हैं जिसे आपको किराया देना होगा हालांकि, आपकी प्राथमिकता सूची में कुछ कारक हैं, लेकिन उन्हें अनदेखा कर आप रातों की नींद ले सकते हैं। पर्याप्त साफ है? आप गंदे परिवेश को गंभीर समस्या के रूप में नहीं मान सकते हैं; यह आपके घर का हिस्सा नहीं है हालांकि, आपके घर के पास चल रहे एक कूड़ा घर या सीवेज पाइप आपके और आपके परिवार के लिए स्वास्थ्य समस्या पैदा कर सकता है। वे भी हर समय बदबूदार गंध को धूमिल करेंगे क्षेत्र के आसपास जल प्रवेश मच्छरों के लिए एक प्रजनन स्थल हो सकता है पर्याप्त सुरक्षित है? आपने घर के सभी ताले, दरवाजे और खिड़कियां जांच लिए हैं, लेकिन अपने घर के आसपास के क्षेत्र में सुरक्षा समान रूप से महत्वपूर्ण है। यह एक महत्वपूर्ण मुद्दा है जिसे आप ध्यान में रखना चाहिए, भले ही आप एक छात्र हों, जो घर में किसी भी क़ीमती सामान नहीं लेते हैं। पर्याप्त कूल? आप एक इमारत की ऊपरी मंजिल पर रहना पसंद कर सकते हैं क्योंकि बालकनी से सुंदर दृश्य का आनंद लें। लेकिन, यह मत भूलो कि सर्दियों के दौरान ऊपरी मंजिल गर्मियों में और गर्म हो जाएगा। एक कमरे जो प्रत्यक्ष सूर्य के प्रकाश को प्राप्त करता है, वहां ठंडा होने के लिए अधिक समय लगेगा भले ही एक एयर कंडीशनर हो और अंत में आपका बिजली बिल बढ़ जाएगा आज्ञाकारी पर्याप्त? अगर आप किसी अपार्टमेंट में जाते हैं, तो आपको निवासियों के कल्याण संघ (आरडब्ल्यूए) द्वारा निर्धारित दिशानिर्देशों का पालन करना होगा। कुछ नियम हो सकते हैं जो आपकी जीवन शैली के अनुरूप नहीं हो सकते हैं आरडब्ल्यूए के मानदंडों के बारे में जानना एक बार जब आप घर में स्थानांतरित हो जाते हैं तो आपको परेशानी हो सकती है। समझौते को अंतिम रूप देने से पहले, अपने मकान मालिक के साथ उन पर चर्चा करें। पर्याप्त कानूनी? उचित दस्तावेज केवल मकान मालिक के लिए महत्वपूर्ण नहीं है बल्कि किरायेदार के लिए भी महत्वपूर्ण है। सुनिश्चित करें कि आपके किराया समझौते में सभी खंड हैं जिन पर आपने अपने मकान मालिक के साथ मौखिक रूप से चर्चा की है हमेशा अपने किराया समझौते की एक प्रति अपने साथ रखें
 अगर में अपनी बात करूं तो आज मैं जो आपके लिए ब्लॉक लिख रहा हूं. शायद इसमें से कुछ क्रेडिट रोहित मेवाड़ा को भी जाता है. रोहित के बाद तो जैसे हिंदी ब्लॉगर्स की लाइन ही लग गई. फिर लोगों के दिलों में जगह बनाने में कामयाब रहे, टेक्नोलॉजी ब्लॉगिंग के सफल ब्लॉगर जुम्मेदीन खान. जुमेदीन भाई ने ब्लॉगिंग से अच्छा पैसा तो कमाया ही साथ ही साथ लोगों की दिलो में अच्छी खासी जगह भी बनाई.
सबसे पहले आपको Media.net की वेबसाइट पर जाकर अपनी वेबसाइट, फोन नम्बर और ईमेल पता भरकर इंविटेशन प्राप्त करना होगा। जब आपको इंविटेशन मिल जाए तो अपना सभी जानकारी सही सही भर दें। फिर आपको अकाउंट एप्रूवल मिल जाएगा जिसकी जानकारी आपका अकाउंट मैनेजर आपको देगा। इसके बाद अपनी Media.net पर Login कर सकते हैं। इसके बाद आप नए ऐड यूनिट बनाकर अपनी वेबसाइट थीम के अनुसार ऑप्टिमाइज़ कर सकते हैं और अपने ब्लॉग पर विज्ञापन लगाकर कमाई शुरु कर सकते हैं।
दोस्तों क्या आप जानते हैं  online money  कैसे बना सकते हैं अगर नहीं तो इस Article को आप पूरे अच्छे तरीके से पढ़ें और अंत में आपको पूरे ऑनलाइन पैसे कमाने से संबंधित जानकारियाँ आपको मिल जाएगी इसमें आपको किसी प्रकार की shortcut  और fake method आपको नहीं बताया जाएगा क्योंकि दोस्तों अगर आप shortcut और fake method से पैसा कमाते हैं तो आपको थोड़ी देर के लिए खुशी होती है लेकिन अगर आपको एक सही तरीके से पैसे कमाते हैं,आपके अंदर एक खुशी होती है |   आपको इस काम को करने में उत्सुकता बनाए रखती है जिससे आपका कभी भी मनोवल नहीं गिरता है और हमेशा आप उसे करते ही जाते हैं और अंततः आपको success  मिल ही जाती है इसलिए आप सही रास्ते चुने ना कि किसी भी प्रकार के shortcut रास्ते को तो बिना Time waste किए हुए आपको online money बनाने के लिए क्या-क्या तरीके हैं और हमें क्या करना चाहिए जिससे कि घर बैठे  ऑनलाइन पैसा बना सकें :- [caption id="attachment_124" align="aligncenter" width="571"]online money earn[/caption]
कड़ी मेहनत और समर्पण के लिए, श्यामा देवी को केवीके, ढकरानी द्वारा राज्यस्तरीय महिला सम्मान पुरुस्कार के लिए नामांकित किया गया, जिसे 5 अक्टूबर, 2018 को जी. बी. पंत कृषि और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, पंतनगर के कुलपति द्वारा उसे देकर सम्मानित किया गया। शानदार काम को प्रदर्शित करने के लिए, समूह को श्रीमती मनीषा पंवार, निदेशक, उत्तराखंड राज्य आजीविका मिशन द्वारा उत्तराखंड हिमान्या सरस मेला में भी सम्मानित किया गया था। इस सफलता के बाद, महिला जागृति समूह ने 14 समान समूहों के साथ ब्लॉक मिशन प्रभाण्डक की मदद से 23 जून, 2018 को जय माता दी, ग्राम संगठन की स्थापना की।
ऑनलाइन पैसा कमाने का एक और तरीका है परामर्श। यदि आप किसी भी क्षेत्र के विशेषज्ञ हैं, तो आप संभावित रूप से लोगों को उनके व्यक्तिगत या व्यावसायिक लक्ष्यों पर उन्हें परामर्श देने के लिए तैयार हो सकते हैं। यदि आप सोच रहे हैं कि आप बड़ी कंपनियों के लिए परामर्श करने के लिए पर्याप्त महत्वपूर्ण नहीं हैं, लेकिन आपको आश्चर्य हो सकता है, जब आप ऐसे विशेषज्ञता वाले लोगों को यहां पर कमाते हुए देखेंगे।
लेकिन अब हम आपको मोबाइल ऐप से पैसा कमाने के तरीके बताएंगे | सबसे पहले हम आपको एक उदाहरण देंगे, दोस्तों हम देखते हैं कि ऑनलाइन फूड ऑर्डर कंपनी जैसे स्विगी, जोमैटो और ऑनलाइन कार रेंटल कंपनी जैसे कि ओला कैब उबर एप्स | यह सारी कंपनी एक छोटे से ऐप का इस्तेमाल करके ही पैसा कमाती है, सबसे बड़ी कंपनी के मालिक के दिमाग में आई कि हम लोगों को घर पर बैठकर खाना दे सकते हैं |
ऑनलाइन वर्क (Online Work) शुरू करने से पहले आपको अपने इंटेरेस्ट के बारे में जानना ज़रूरी है क्युकी बिना इंटेरस्ट के किसी भी काम में सक्सेस नहीं मिल सकती. अगर आपका इंटेरेस्ट राइटिंग में है तो आप फ्रीलांस राइटिंग ट्राइ कर सकते हैं. अगर आपकी मार्केटिंग स्किल अच्छी हैं तो आप अफिलीयेट मार्केटिंग ट्राइ कर सकते हैं और अगर आपको इंटेरेस्ट वीडियो में है तो आप यूटयूब वीडियो बना कर यूटयूब से पैसे कमा सकते हैं (Youtube se paise kama sakte hain).
जबकि प्रकाशन उद्योग प्रिंट में भारी हुआ करता था, आप इन दिनों ऑनलाइन ही किताब लिखने, प्रकाशन और मार्केटिंग की पूरी प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं। Create Space जैसी वेबसाइट आपको एक औपचारिक प्रकाशक को शामिल किए बिना प्रिंट करने के लिए आपकी पुस्तक को अपलोड करने देती हैं, और आप अपनी पुस्तक Amazon.com पर भी उपलब्ध कर सकते हैं ताकि लोग इसे वहां से खरीद सकें।
आगे बढ़ने से पहले आपको Contextual Ads को समझ लेना चाहिए। इस प्रकार के विज्ञापन आपके ब्लॉग या वेबसाइट पर मौजूद कंटेंट के कीवर्ड को समझकर विज्ञापन दिखाते हैं यानि अगर आप वेब होस्टिंग के बारे में लिख रहे हैं तो अधिकतर वेब होस्टिंग या उससे संबंधित विज्ञापन दिखाए जाएंगे। इसलिए अगर आपको ब्लॉग और Media.net ads से ज़्यादा से ज़्यादा आमदनी करनी है तो आप अधिक सर्च किए जाने वाले कीवर्ड के साथ उन कीवर्ड्स को चुनें जिन पर CPC या CPM ज़्यादा मिल सके।
इंटरनेट से पैसे कमाना चाहते हैं। वह भी ऑनलाइन तो ब्लॉगिंग जो है No-1 पर आता है। यह बहुत अच्छा प्लेटफार्म में बहुत ही जल्दी इसमें अच्छे पैसे कमा सकते हैं। ब्लॉगिंग में क्या करना होता है कि, अगर आपके पास Wrtting Skills है। तो आप अच्छे से इसमें पोस्ट लिखकर अच्छे खासे पैसे कमा सकते हैं। ब्लॉगिंग में अगर पैसे इन्वेस्टमेंट की बात करें तो बहुत कम इन्वेस्ट होता है। और जब पैसे आने लगते हैं। तो काफी अच्छे खासे पैसे आने लगते हैं। 🙂
 लेकिन हम बात कर रहे हैं इन वेबसाइट से पैसे कैसे कमाएं? इसीलिए मैं आपको बता दूं, कि ये वेबसाइट आपको अच्छा खासा पैसा कमाने का विकल्प भी देती है.  इन वेबसाइट के द्वारा आप हर वह ऑनलाइन काम कर सकते हो, जो आपको अच्छे से आता हो और जिसकी लोगों को जरूरत हो. बस आपको करना यह कि इन वेबसाइट पर जाकर आपको अपना Service Provider खाता बनाना होता है और इसके बाद आप अपने काम से रिलेटेड Gigg पोस्ट कर सकते हैं.
आगे बढ़ने से पहले आपको Contextual Ads को समझ लेना चाहिए। इस प्रकार के विज्ञापन आपके ब्लॉग या वेबसाइट पर मौजूद कंटेंट के कीवर्ड को समझकर विज्ञापन दिखाते हैं यानि अगर आप वेब होस्टिंग के बारे में लिख रहे हैं तो अधिकतर वेब होस्टिंग या उससे संबंधित विज्ञापन दिखाए जाएंगे। इसलिए अगर आपको ब्लॉग और Media.net ads से ज़्यादा से ज़्यादा आमदनी करनी है तो आप अधिक सर्च किए जाने वाले कीवर्ड के साथ उन कीवर्ड्स को चुनें जिन पर CPC या CPM ज़्यादा मिल सके।
ब्लॉगिंग – अगर आपको लिखने का शौक है और आप अपने विचार दुनिया के साथ शेयर करना चाहते है तो इसके लिए ब्लॉगिंग एक बेहतरीन बिजनेस ऑप्शन है, जिसमें एक ब्लॉग या वेबसाइट बनाकर उस पर आर्टिकल्स पब्लिश किये जाते हैं और अगर आपके ब्लॉग लोगों को प्रेरित करते हैं तो आपके ब्लॉग या वेबसाइट पर विजिटर की संख्या बढ़ती जाएगी और ऐसे में ब्लॉग पर विज्ञापन प्रदर्शित करके पैसा कमाना काफी आसान हो जाता है।
समझ लीजिए आपने किसी जॉब साइट को तैयार किया है और यह साइट बहुत ही जानी मानी है | इस साइट पर दिन भर में हजारों युसर्स आकर आपके पोस्ट देखते हैं | यह पोस्ट देखते समय आप आपके साइट पर गूगल ऐडसेंस के ऐड डाल सकते हो जिन पर क्लिक करके आपको गूगल ऑटोमेटिक पैसा देता है | जब आपके वेबसाइट के विजिटर्स ज्यादा से ज्यादा क्लिक करते हैं वैसे वैसे गूगल आपको पैसे देता है | गूगल ऐडसेंस के द्वारा लाखों रुपए कमाना आसान नहीं होता है, कुछ महीनों तक आपको आपके साइट पर ज्यादा से ज्यादा काम करना होता है |
 अगर आप ब्लॉगिंग करना चाहते हैं. तो आप blogger blog से शुरू करिए. जो कि एकदम free of cost है. जब आप अच्छा कमाने लग जाए और आपको एक्स्ट्रा फीचर्स की जरूरत पढ़े तो आप wordpress पर शिफ्ट कर जाएं. जो कि ब्लॉगिंग का paid Platform है. जहां पर आपको कई एडवांस फीचर मिल जाएंगे जो आपके ब्लॉगिंग एक्सपीरियंस को काफी आसान बना देंगे. अगर आप ब्लॉगिंग के बारे में अधिक जानकारी चाहते हैं तो रवि भाई के ब्लॉग anytechinfo पर विजिट कर सकते हैं.
2) Affiliate Marketing: ये होता है, दुशरो को चीजों को sell करने में मदद करना. जब आप online बिकने वाला कोई product को sell करने में मदद करते है, तो वो seller आपको commission देता है. आप बड़े बड़े e-commerce websites जैसे Flipkart, Amazon या फिर कोई hosting company के product को sell करवा के अच्छा खासा income कर सकते है. आप affilate marketing में Advertising से ज्यादा पैसे कमा सकते है.
इसमें आपको hard work की नहीं बल्कि smart work की जरूरत होती है आप online field  में जितना ज्यादा smart work करेंगे उतना ही ज्यादा आपको फायदा मिलेगा और एक बात हमेशा आप को ध्यान में रखना होगा कि आपको online money earn करने के लिए आपको हमेशा self motivated  रहना होगा और शुरू में आप कभी भी पैसे के ऊपर ध्यान मत दे क्योंकि इससे आपका confidence नीचे जाता है और आप यह सोचने लगते हैं कि इसमें हमें किसी भी प्रकार का लाभ नहीं हो रहा है | हम इसे नहीं कर सकते हैं | तो आप इस बात का ध्यान रखें कि आप शुरू में सिर्फ अपने काम को करते जाएं और जैसे-जैसे आप इस काम को करेंगे वैसे वैसे आपका experience  बढ़ेगा और आप online field के एक experience player हो जाएंगे | उसके बाद हमें यह कहने की जरूरत नहीं है कि आप ऑनलाइन कितने पैसे कमा सकते हैं आप ऑनलाइन से unlimited money earn कर सकते हैं लेकिन आपको इसके लिए बहुत मेहनत करना पड़ेगा क्योंकि आजकल बहुत compettion है जिससे आपको आगे निकलना होगा तो इसके लिए मेहनत के साथ साथ smart work  करना जरूरी है |  
 लेकिन YouTube पर ऐसा नहीं है. YouTube पर आप थोड़ी बहुत टेक्निकल नॉलेज से काम चला सकते है. जिसे आप आसानी से इंटरनेट के माध्यम से सीख सकते है. लेकिन अगर आप YouTube में करियर बनाना चाहते हैं, तो सबसे जरूरी बात आपके content यानी कि वीडियो में जान होनी चाहिए. अगर सीधी भाषा में कहें तो आपका content लोगों को पसंद आना चाहिए. जिससे आपके views increase हों और आपको रेगुलर ऑडियंस मिल सके.
सबसे पहले आपको Media.net की वेबसाइट पर जाकर अपनी वेबसाइट, फोन नम्बर और ईमेल पता भरकर इंविटेशन प्राप्त करना होगा। जब आपको इंविटेशन मिल जाए तो अपना सभी जानकारी सही सही भर दें। फिर आपको अकाउंट एप्रूवल मिल जाएगा जिसकी जानकारी आपका अकाउंट मैनेजर आपको देगा। इसके बाद अपनी Media.net पर Login कर सकते हैं। इसके बाद आप नए ऐड यूनिट बनाकर अपनी वेबसाइट थीम के अनुसार ऑप्टिमाइज़ कर सकते हैं और अपने ब्लॉग पर विज्ञापन लगाकर कमाई शुरु कर सकते हैं।
आज के ज़माने में affiliate marketing कमाई करने का सबसे popular तरीका बन गया है. आप सोच रहे होंगे. आखिर affiliate marketing हे क्या? वो तो इस link के माध्याम से समझ सकते है. फिर भी अगर किसी e-commerce website को उसके product बेचने में help करना. जैसे amazon, flipkart, snapdeal etc. प्रोडक्ट्स बेचने में help करना और बदलेमे उनसे commission लेना. इसी पूरी process को affiliate marketing कहते है.
Topics : Make Money Onlineपैसे कमाए Share This : Share On FacebookShare to TwitterShare On Google PlusShare to PinterestShare On Linkedin About Author ( मेरे बारे मे )मेरा नाम Devisinh Sodha है. में Full Time Hindi Blogger , Seo Expert और Web Programmer हूँ. Pro Blog Hindi Blog उन लोगो की मदद के लिए बनाया गया है जो Blogging, Search Engine Optimizetion, Make Money Online, Blogspot, Wordpress और Programming सीखना चाहते है. Newer Post Older Post

(function(){"use strict";function s(e){return"function"==typeof e||"object"==typeof e&&null!==e}function a(e){return"function"==typeof e}function l(e){X=e}function u(e){G=e}function c(){return function(){r.nextTick(p)}}function f(){var e=0,n=new ne(p),t=document.createTextNode("");return n.observe(t,{characterData:!0}),function(){t.data=e=++e%2}}function d(){var e=new MessageChannel;return e.port1.onmessage=p,function(){e.port2.postMessage(0)}}function h(){return function(){setTimeout(p,1)}}function p(){for(var e=0;et.length)&&(n=t.length),n-=e.length;var r=t.indexOf(e,n);return-1!==r&&r===n}),String.prototype.startsWith||(String.prototype.startsWith=function(e,n){return n=n||0,this.substr(n,e.length)===e}),String.prototype.trim||(String.prototype.trim=function(){return this.replace(/^[\s\uFEFF\xA0]+|[\s\uFEFF\xA0]+$/g,"")}),String.prototype.includes||(String.prototype.includes=function(e,n){"use strict";return"number"!=typeof n&&(n=0),!(n+e.length>this.length)&&-1!==this.indexOf(e,n)})},"./shared/require-global.js":function(e,n,t){e.exports=t("./shared/require-shim.js")},"./shared/require-shim.js":function(e,n,t){var r=t("./shared/errors.js"),i=(this.window,!1),o=null,s=null,a=new Promise(function(e,n){o=e,s=n}),l=function(e){if(!l.hasModule(e)){var n=new Error('Cannot find module "'+e+'"');throw n.code="MODULE_NOT_FOUND",n}return t("./"+e+".js")};l.loadChunk=function(e){return a.then(function(){return"main"==e?t.e("main").then(function(e){t("./main.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"dev"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("dev")]).then(function(e){t("./shared/dev.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"internal"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("internal"),t.e("qtext2"),t.e("dev")]).then(function(e){t("./internal.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"ads_manager"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("ads_manager")]).then(function(e){t("./ads_manager/main.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"publisher_dashboard"==e?t.e("publisher_dashboard").then(function(e){undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"content_widgets"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("content_widgets")]).then(function(e){t("./content_widgets.iframe.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):void 0})},l.whenReady=function(e,n){Promise.all(window.webpackChunks.map(function(e){return l.loadChunk(e)})).then(function(){n()})},l.installPageProperties=function(e,n){window.Q.settings=e,window.Q.gating=n,i=!0,o()},l.assertPagePropertiesInstalled=function(){i||(s(),r.logJsError("installPageProperties","The install page properties promise was rejected in require-shim."))},l.prefetchAll=function(){t("./settings.js");Promise.all([t.e("main"),t.e("qtext2")]).then(function(){}.bind(null,t))["catch"](t.oe)},l.hasModule=function(e){return!!window.NODE_JS||t.m.hasOwnProperty("./"+e+".js")},l.execAll=function(){var e=Object.keys(t.m);try{for(var n=0;n=c?n():document.fonts.load(u(o,'"'+o.family+'"'),a).then(function(n){1<=n.length?e():setTimeout(t,25)},function(){n()})}t()});var w=new Promise(function(e,n){l=setTimeout(n,c)});Promise.race([w,m]).then(function(){clearTimeout(l),e(o)},function(){n(o)})}else t(function(){function t(){var n;(n=-1!=y&&-1!=g||-1!=y&&-1!=v||-1!=g&&-1!=v)&&((n=y!=g&&y!=v&&g!=v)||(null===f&&(n=/AppleWebKit\/([0-9]+)(?:\.([0-9]+))/.exec(window.navigator.userAgent),f=!!n&&(536>parseInt(n[1],10)||536===parseInt(n[1],10)&&11>=parseInt(n[2],10))),n=f&&(y==b&&g==b&&v==b||y==x&&g==x&&v==x||y==j&&g==j&&v==j)),n=!n),n&&(null!==_.parentNode&&_.parentNode.removeChild(_),clearTimeout(l),e(o))}function d(){if((new Date).getTime()-h>=c)null!==_.parentNode&&_.parentNode.removeChild(_),n(o);else{var e=document.hidden;!0!==e&&void 0!==e||(y=p.a.offsetWidth,g=m.a.offsetWidth,v=w.a.offsetWidth,t()),l=setTimeout(d,50)}}var p=new r(a),m=new r(a),w=new r(a),y=-1,g=-1,v=-1,b=-1,x=-1,j=-1,_=document.createElement("div");_.dir="ltr",i(p,u(o,"sans-serif")),i(m,u(o,"serif")),i(w,u(o,"monospace")),_.appendChild(p.a),_.appendChild(m.a),_.appendChild(w.a),document.body.appendChild(_),b=p.a.offsetWidth,x=m.a.offsetWidth,j=w.a.offsetWidth,d(),s(p,function(e){y=e,t()}),i(p,u(o,'"'+o.family+'",sans-serif')),s(m,function(e){g=e,t()}),i(m,u(o,'"'+o.family+'",serif')),s(w,function(e){v=e,t()}),i(w,u(o,'"'+o.family+'",monospace'))})})},void 0!==e?e.exports=a:(window.FontFaceObserver=a,window.FontFaceObserver.prototype.load=a.prototype.load)}()},"./third_party/tracekit.js":function(e,n){/**
×