यूट्यूब पर पैसा कमाने के लिए कभी भी दिल में ना रखे की युटुब पर आपको ढेर सारा पैसा कमाना है | जिस वीडियोस को बनाकर आपको यूट्यूब पर अपलोड करना है उस वीडियो को बनाते समय खुद मनोरंजन करें जिससे आपको काम करते समय बहुत ज्यादा मजा आएगा | ऐसा करते करते आपका चैनल फेमस होने के साथ-साथ आपके सब्सक्राइब और भी बढ़ेगा जिससे यूट्यूब से ऑनलाइन अर्निंग करना बहुत ही आसान हो जाएगा |

 अगर में अपनी बात करूं तो आज मैं जो आपके लिए ब्लॉक लिख रहा हूं. शायद इसमें से कुछ क्रेडिट रोहित मेवाड़ा को भी जाता है. रोहित के बाद तो जैसे हिंदी ब्लॉगर्स की लाइन ही लग गई. फिर लोगों के दिलों में जगह बनाने में कामयाब रहे, टेक्नोलॉजी ब्लॉगिंग के सफल ब्लॉगर जुम्मेदीन खान. जुमेदीन भाई ने ब्लॉगिंग से अच्छा पैसा तो कमाया ही साथ ही साथ लोगों की दिलो में अच्छी खासी जगह भी बनाई.
बातचीत का अभाव, स्वार्थी उद्देश्य और लाभ, ये सभी शिक्षक-छात्र संबंधों के हिस्से में नहीं होते हैं, क्योंकि ये संबंध स्वार्थी हितों से अलग होते हैं। इन सभी के लिए कोई अवधि नहीं होती है। लेकिन कुछ दिन पहले, मैंने एक समाचार पत्र पढ़ा था जिसमें मैंने जो कुछ भी सोचा था वह उसके विपरीत ही था। ठाकुर विद्या मंदिर विद्यालय के एक प्रधानाचार्य और शिक्षक ने अपने पूर्व छात्रों को अपनी पत्नी की हत्या के लिए 50, 000 रुपये दिए। प्राधानाचार्य अपनी पत्नी को मारना चाहते थे, क्योंकि उनकी पत्नी ने उन पर उसी स्कूल की महिला छात्रों के साथ संबंध रखने के लिए संदेह किया था। उन छात्रों ने उनकी पत्नी को मार दिया और उनका शव फेंकने से पहले उसके शरीर को टुकड़ों में काट दिया था। जिसने निर्दयता की सीमा को पार कर दिया। नैतिक महत्व और मानकों में भी गिरावट आ गयी है, इस कारण अच्छे संबंध भी अप्रभावित नहीं टिक पा रहे हैं। हमें ऐसे शिक्षकों के बारे में विचार करना होगा, जो नैतिक मान्यता को स्थापित करने की बजाय इस तरह के अनैतिक संबंधों और ऐसे कुकर्मों को करते हैं। शिक्षकों और छात्रों के बारे में इस तरह की अधिक से अधिक खबरें आ रही हैं, हमें इस तथ्य से सहमत होना होगा कि शिक्षा का नैतिक मूल्य से कोई लेना देना नहीं है और इस तथ्य को भी सुनिश्चित करना होगा कि शिक्षक-छात्र संबंध की परिभाषा बदल रही है या बिगड़ रही है।

मुझे लगता है. आपने ब्लॉग्गिंग पहली बार सूना होगा. पहले में इसके बारे में basic जानकरी देता हूँ. तो ब्लॉग्गिंग यानि किसी website को चलाना. पहले is बात को भी जानले. website को ही blog कहते है. लेकिन ब्लॉग में हम हमारा knowledge लोगो के साथ article के रूप में share करते है. जैसे आप अभी पैसा कमाने के तरीके पढ़ रहे है. यह article आप एक blog पर रीड कर रहे है. और में इस website को हैंडल कर रहा हूँ. मतलब इसे daily पड़ते कर रहा हूँ. तो इस प्रोसेस को ही ब्लॉग्गिंग कहते है.
यदि आप एक अच्छे विडियो क्रिएटर बन जाते हैं, तो एक आप एक अच्छी इनकम कर सकते हैं. यूट्यूब येसा ही ऑनलाइन प्लेटफार्म प्रदान करता है, जहां से आप अपने वीडियो को क्रिएट कर अपलोड कर सकते हैं. यदि आपके विडियो के उपर एक अच्छा ट्रैफिक आने लगता है, तो यूट्यूब आपके चैनल को मोनेटाइजेशन कर देता है, यानि आपकी वीडियो पर यूट्यूब उस पर विज्ञापन दिखाना शुरु कर देता है.
Topics : Make Money Onlineपैसे कमाए Share This : Share On FacebookShare to TwitterShare On Google PlusShare to PinterestShare On Linkedin About Author ( मेरे बारे मे )मेरा नाम Devisinh Sodha है. में Full Time Hindi Blogger , Seo Expert और Web Programmer हूँ. Pro Blog Hindi Blog उन लोगो की मदद के लिए बनाया गया है जो Blogging, Search Engine Optimizetion, Make Money Online, Blogspot, Wordpress और Programming सीखना चाहते है. Newer Post Older Post
अभी सबसे महत्वपूर्ण सवाल. website से पैसे कैसे कमाते है. तो देखिये, दोस्तों! सबसे पहले इस बात को जनलो. दुनिया में जितने भी websites है. उनका कमाने का मुख्य तरीका विज्ञापान ही है. हमें खुदका blog बनाने के उसपर ad लगाने पड़ेंगे. Ads के लिये, google adsense को apply करना पड़ता है. जो की online advertisement कंपनी है. जब हमारी application approval होती है. तब जाके हमारे site पर विज्ञापन show होते है. और जब कोई विजिटर हमारे website को visit करके, show होने वाले ad पर click करता है. तो हमें per click पैसे मिलते है.
अगर आपका ऐप एक बहुत ही प्रभावशाली है मतलब लोगों को मदद करने वाला है तो आसानी से लोग प्ले स्टोर में जाकर आपका ऐप डाउनलोड करेंगे जिससे आप आसानी से पैसा कमा सकते हो | बहुत सारे छोटे-छोटे ऐप ऐसे होते हैं जो अपने एप पर गूगल ऐडसेंस की एडवर्टाइजमेंट डालकर लाखों रुपए कमाते हैं | दोस्तों इस तरीके से आप ऑनलाइन ऐप बनाकर करोड़ों रुपए कमा सकते हो, अगर आपको ऑनलाइन पैसा कमाने के बारे में कोई सवाल है तो आप हमें नीचे दिए गए हुए कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हो |

 अगर आप को वीडियो बनाने के बारे में ज्यादा नॉलेज नहीं है, तो कोई बात नहीं. आपको YouTube पर ऐसे हजारों वीडियो मिल जाएंगे, जो आपकी प्रॉब्लम को बड़ी आसानी से सॉल्व कर देंगे. आपको यह जानकर आश्चर्य होगा, कि इंडिया में ऐसे बहुत से YouTuber हैं. जो YouTube के माध्यम से लाखों रुपए महीने का कमा रहे हैं. अगर आप कुछ क्रिएटिव कर सकते हैं YouTube आपके लिए गोल्ड से भी ज्यादा सुनहरा अवसर है.


!function(n,t){function r(e,n){return Object.prototype.hasOwnProperty.call(e,n)}function i(e){return void 0===e}if(n){var o={},s=n.TraceKit,a=[].slice,l="?";o.noConflict=function(){return n.TraceKit=s,o},o.wrap=function(e){function n(){try{return e.apply(this,arguments)}catch(e){throw o.report(e),e}}return n},o.report=function(){function e(e){l(),h.push(e)}function t(e){for(var n=h.length-1;n>=0;--n)h[n]===e&&h.splice(n,1)}function i(e,n){var t=null;if(!n||o.collectWindowErrors){for(var i in h)if(r(h,i))try{h[i].apply(null,[e].concat(a.call(arguments,2)))}catch(e){t=e}if(t)throw t}}function s(e,n,t,r,s){var a=null;if(w)o.computeStackTrace.augmentStackTraceWithInitialElement(w,n,t,e),u();else if(s)a=o.computeStackTrace(s),i(a,!0);else{var l={url:n,line:t,column:r};l.func=o.computeStackTrace.guessFunctionName(l.url,l.line),l.context=o.computeStackTrace.gatherContext(l.url,l.line),a={mode:"onerror",message:e,stack:[l]},i(a,!0)}return!!f&&f.apply(this,arguments)}function l(){!0!==d&&(f=n.onerror,n.onerror=s,d=!0)}function u(){var e=w,n=p;p=null,w=null,m=null,i.apply(null,[e,!1].concat(n))}function c(e){if(w){if(m===e)return;u()}var t=o.computeStackTrace(e);throw w=t,m=e,p=a.call(arguments,1),n.setTimeout(function(){m===e&&u()},t.incomplete?2e3:0),e}var f,d,h=[],p=null,m=null,w=null;return c.subscribe=e,c.unsubscribe=t,c}(),o.computeStackTrace=function(){function e(e){if(!o.remoteFetching)return"";try{var t=function(){try{return new n.XMLHttpRequest}catch(e){return new n.ActiveXObject("Microsoft.XMLHTTP")}},r=t();return r.open("GET",e,!1),r.send(""),r.responseText}catch(e){return""}}function t(t){if("string"!=typeof t)return[];if(!r(j,t)){var i="",o="";try{o=n.document.domain}catch(e){}var s=/(.*)\:\/\/([^:\/]+)([:\d]*)\/{0,1}([\s\S]*)/.exec(t);s&&s[2]===o&&(i=e(t)),j[t]=i?i.split("\n"):[]}return j[t]}function s(e,n){var r,o=/function ([^(]*)\(([^)]*)\)/,s=/['"]?([0-9A-Za-z$_]+)['"]?\s*[:=]\s*(function|eval|new Function)/,a="",u=10,c=t(e);if(!c.length)return l;for(var f=0;f0?s:null}function u(e){return e.replace(/[\-\[\]{}()*+?.,\\\^$|#]/g,"\\$&")}function c(e){return u(e).replace("<","(?:<|<)").replace(">","(?:>|>)").replace("&","(?:&|&)").replace('"','(?:"|")').replace(/\s+/g,"\\s+")}function f(e,n){for(var r,i,o=0,s=n.length;or&&(i=s.exec(o[r]))?i.index:null}function h(e){if(!i(n&&n.document)){for(var t,r,o,s,a=[n.location.href],l=n.document.getElementsByTagName("script"),d=""+e,h=/^function(?:\s+([\w$]+))?\s*\(([\w\s,]*)\)\s*\{\s*(\S[\s\S]*\S)\s*\}\s*$/,p=/^function on([\w$]+)\s*\(event\)\s*\{\s*(\S[\s\S]*\S)\s*\}\s*$/,m=0;m]+)>|([^\)]+))\((.*)\))? in (.*):\s*$/i,o=n.split("\n"),l=[],u=0;u=0&&(g.line=v+x.substring(0,j).split("\n").length)}}}else if(o=d.exec(i[y])){var _=n.location.href.replace(/#.*$/,""),T=new RegExp(c(i[y+1])),E=f(T,[_]);g={url:_,func:"",args:[],line:E?E.line:o[1],column:null}}if(g){g.func||(g.func=s(g.url,g.line));var k=a(g.url,g.line),A=k?k[Math.floor(k.length/2)]:null;k&&A.replace(/^\s*/,"")===i[y+1].replace(/^\s*/,"")?g.context=k:g.context=[i[y+1]],h.push(g)}}return h.length?{mode:"multiline",name:e.name,message:i[0],stack:h}:null}function y(e,n,t,r){var i={url:n,line:t};if(i.url&&i.line){e.incomplete=!1,i.func||(i.func=s(i.url,i.line)),i.context||(i.context=a(i.url,i.line));var o=/ '([^']+)' /.exec(r);if(o&&(i.column=d(o[1],i.url,i.line)),e.stack.length>0&&e.stack[0].url===i.url){if(e.stack[0].line===i.line)return!1;if(!e.stack[0].line&&e.stack[0].func===i.func)return e.stack[0].line=i.line,e.stack[0].context=i.context,!1}return e.stack.unshift(i),e.partial=!0,!0}return e.incomplete=!0,!1}function g(e,n){for(var t,r,i,a=/function\s+([_$a-zA-Z\xA0-\uFFFF][_$a-zA-Z0-9\xA0-\uFFFF]*)?\s*\(/i,u=[],c={},f=!1,p=g.caller;p&&!f;p=p.caller)if(p!==v&&p!==o.report){if(r={url:null,func:l,args:[],line:null,column:null},p.name?r.func=p.name:(t=a.exec(p.toString()))&&(r.func=t[1]),"undefined"==typeof r.func)try{r.func=t.input.substring(0,t.input.indexOf("{"))}catch(e){}if(i=h(p)){r.url=i.url,r.line=i.line,r.func===l&&(r.func=s(r.url,r.line));var m=/ '([^']+)' /.exec(e.message||e.description);m&&(r.column=d(m[1],i.url,i.line))}c[""+p]?f=!0:c[""+p]=!0,u.push(r)}n&&u.splice(0,n);var w={mode:"callers",name:e.name,message:e.message,stack:u};return y(w,e.sourceURL||e.fileName,e.line||e.lineNumber,e.message||e.description),w}function v(e,n){var t=null;n=null==n?0:+n;try{if(t=m(e))return t}catch(e){if(x)throw e}try{if(t=p(e))return t}catch(e){if(x)throw e}try{if(t=w(e))return t}catch(e){if(x)throw e}try{if(t=g(e,n+1))return t}catch(e){if(x)throw e}return{mode:"failed"}}function b(e){e=1+(null==e?0:+e);try{throw new Error}catch(n){return v(n,e+1)}}var x=!1,j={};return v.augmentStackTraceWithInitialElement=y,v.guessFunctionName=s,v.gatherContext=a,v.ofCaller=b,v.getSource=t,v}(),o.extendToAsynchronousCallbacks=function(){var e=function(e){var t=n[e];n[e]=function(){var e=a.call(arguments),n=e[0];return"function"==typeof n&&(e[0]=o.wrap(n)),t.apply?t.apply(this,e):t(e[0],e[1])}};e("setTimeout"),e("setInterval")},o.remoteFetching||(o.remoteFetching=!0),o.collectWindowErrors||(o.collectWindowErrors=!0),(!o.linesOfContext||o.linesOfContext<1)&&(o.linesOfContext=11),void 0!==e&&e.exports&&n.module!==e?e.exports=o:"function"==typeof define&&define.amd?define("TraceKit",[],o):n.TraceKit=o}}("undefined"!=typeof window?window:global)},"./webpack-loaders/expose-loader/index.js?require!./shared/require-global.js":function(e,n,t){(function(n){e.exports=n.require=t("./shared/require-global.js")}).call(n,t("../../../lib/node_modules/webpack/buildin/global.js"))}});
ऑनलाइन पैसे कमाने की शुरुआत करने के लिए ब्लॉगिंग सबसे अच्छा तरीका है। आप Blogger या Wix जैसे फ्री blogging platform पर अपना खुद का मुफ्त बनलॉग बना सकते हैं और 6 माह बाद AdSense अकाउंट के अप्‍लाई कर अच्छे-खासे पैसे कमाना शुरू कर सकते हैं। ब्लॉगिंग बहुत ही आसान है और सबसे बढ़िया बात यह हैं की यह काम अपनी नौकरी करते हुए पार्ट टाइम अपने मन मर्जी से कर सकते हैं।

अभी सबसे महत्वपूर्ण सवाल. website से पैसे कैसे कमाते है. तो देखिये, दोस्तों! सबसे पहले इस बात को जनलो. दुनिया में जितने भी websites है. उनका कमाने का मुख्य तरीका विज्ञापान ही है. हमें खुदका blog बनाने के उसपर ad लगाने पड़ेंगे. Ads के लिये, google adsense को apply करना पड़ता है. जो की online advertisement कंपनी है. जब हमारी application approval होती है. तब जाके हमारे site पर विज्ञापन show होते है. और जब कोई विजिटर हमारे website को visit करके, show होने वाले ad पर click करता है. तो हमें per click पैसे मिलते है.
ब्लॉगिंग से पैसे कैसे कमाए Blogging se paise kaise kamaye? या फिर ब्लॉग से पैसे कैसे कमाते हैं Blog se kaise paise kamaye. तो इस पोस्ट में हम आपको बताएँगे की आप ब्लॉगिंग से ऑनलाइन कैसे पैसे कमा सकते हो? सबसे पहले ब्लॉगर डॉट कॉम www.blogger.com पर जाए. अपनी ज़िमेल से लोजीन करें. फिर क्रियेट ब्लॉग create blog पर क्लिक करें. अपनी पसंद का डोमेन नाम लिखें और continue करें. फिर अपनी पसंद की टेंपलेट चूज़ करें और फिर सेट्टिंग में जाकर कस्टमाइज़ करें. फिर ब्लॉग पोस्ट (Add post) करें. लगातार ब्लॉग पोस्ट करने से आपके ब्लॉग का ट्रॅफिक भी बढ़ेगा. जब ब्लॉग पूरी तरह कस्टमाइज़ हो जाए और बहुत सारी ब्लॉग पोस्ट हो जाए और अच्छा ट्रॅफिक आने लगे तो आप गूगल एड्सेंस अप्लाइ (Apply Google Adsense) कर सकते हैं. अगर गूगल एड्सेंस अप्रूव्ड (Google Adsense Approved) हो जाए तो फिर आप अपनी ब्लॉग को मोनेटाइज़ (Monetize blog) यानी ब्लॉग में एड लगा सकते हैं. हर बार एड क्लिक होने पर आपको गूगल से पैसे मिलेंगे.
एफिलिएट मार्केटिंग से पैसे कमाने के तरीके बहुत ज्यादा अच्छा है. जिससे आप अपने घर बैठे पैसे कमा सकते हैं. इसके अलावा एफिलिएट मार्केटिंग में यदि आप ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट से एफिलिएट नहीं लेना चाहते हैं, तो आप एक ही वेबसाइट से बहुत सारे ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइटों का एफिलिएट  ले सकते हैं. कुलिंक एक ऐसा ही वेबसाइट है, जो आपको एफिलिएट मार्केटिंग का बहुत सारे ऑप्शंस देता है. कुलिंक आपको ढेर सारी अपडेट्स डेली भेजते रहते हैं.

अपने सपनों को साकार करने और जीवन में वित्तीय स्थिरता और स्वतंत्रता के महत्त्व के बारे में महिलाओं को शिक्षित करने के लिए के लिए श्यामा ने लगातार चार महीनों तक कई बैठकें कीं। श्यामा देवी द्वारा किए गए कभी न खत्म होने वाले प्रयासों के परिणामस्वरूप फतेहपुर गाँव की 10 महिला सदस्यों के साथ महिला जागृति समूह 19 सितंबर, 2012 को अपने आधिकारिक रूप में सामने आई। समूह का उद्देश्य था कि गाँव की महिलाएँ अपनी आजीविका के लिए कुछ पैसा कमाएँ। इसने महिला समूहों को बचत के रूप में 100 रुपए प्रति माह की राशि का योगदान दिया।
×