हार्ड वर्क और स्मार्ट वर्क दोनों एक साथ साइट पर अगर आप करते हो तो आसानी से गूगल आपकी साइट ऊपर ले जाएगा | जैसे जैसे आपकी साइट ऊपर जाएगी वैसे-वैसे आपके साईट पर विजिटर्स की संख्या बढ़ेगी, आपके साइट पर जितने ज्यादा विजिटर्स होंगे उतने ज्यादा विजिटर्स आपके साइट पर मौजूद गूगल ऐडसेंस की ऐड पर क्लिक करेंगे जिससे ऑटोमेटिक आपको पैसा मिलेगा | गूगल ऐडसेंस का प्रोग्राम लेने के लिए गूगल ऐडसेंस का अकाउंट होना जरूरी होता है जिससे ज्यादा से ज्यादा पोस्ट आपके साइट पर आएगी और आप डॉलर में पैसा कमाने लग जाओगे |
इंटरनेट पर बहुत सारे वेबसाइट हैं, जहां आप अपने बनाए हुए वीडियो को अपलोड कर घर बैठे पैसे कमाने के तरीके में बहुत मजेदार है. तथा वहा से एक अच्छी आमदनी अर्न कर सकते हैं. वीडियो बनाना पैसा कमाने का एक अच्छा साधन बन सकता है. जिस सब्जेक्ट पर आप वीडियो बनाना चाहते हैं, तो उसके लिए पहले आपको एक सब्जेक्ट को चुनाव करना पड़ेगा. उसी सब्जेक्ट एक के ऊपर रहते हुए हर एक वीडियो को फोकस करना होगा.
उदाहरण के तौर पर जब आप इसी वेबसाइट जैसे makehindi.com को ओपन करते हो तो इस पोस्ट के ऊपर नीचे विज्ञापन लगे होते है जब आप इनके विज्ञापन पर क्लिक करते है तो makehindi.com को इससे पैसे मिलते है. इसी तरह आप भी कर सकते हैं. आप अपनी खुद की वेबसाइट बनाकर उस पर गूगल ऐडसेन्स से विज्ञापन लगवा सकते है और वेबसाइट से पैसे कमा सकते हो. बता दे कि वेबसाइट से करोड़ों लोग करोड़ों रूपये कमा रहे है.
जब $ 50 तक का Negative balance होता है, तो आपको अगले निकासी से पहले न्यूनतम $ 50 जमा करने के अलावा घाटे को कवर करने के लिए पर्याप्त कमीशन अर्जित करना चाहिए। यदि आपका खाता $ 50 से अधिक Negative balance है और अधिक समय तक बना रहता है तो फाइल पर Credit Card से 48 घंटे का शुल्क लिया जाएगा। यदि आपके पास फ़ाइल पर कार्ड नहीं है, तो आपको अपने खाते पर लगाए गए आंशिक प्रतिबंध को हटाने से पहले एक जोड़ने के लिए कहा जाएगा।
गाँव के महिला समूहों के सशक्तिकरण में अपना योगदान प्रदान करने के लिए, कृषि विज्ञान केंद्र, ढकरानी ने श्यामा के साथ हाथ मिलाया और निर्धारित दिशा में अपना काम शुरू किया। इस उद्देश्य को पूरा करने के लिए केवीके के अधिकारी समय-समय पर महिला जागृति समूह के सदस्यों के साथ बातचीत करते रहे। स्वयं को सशक्त बनाने के लिए महिला समूहों की उत्सुकता के बारे में जानने पर, केवीके अधिकारियों ने उन्हें नई और बेहतर कृषि पद्धतियों के बारे में जागरूक किया और उन तरीकों को भी अपनाने पर ज़ोर दिया जिनके द्वारा वे छोटे हस्तशिल्प वस्तु तैयार करके आर्थिक स्वतंत्रता प्राप्त कर सकते हैं।
यदि आपको फोटोग्राफी का शौक है तो आप अपने फोटोग्राफी के शौक को पूरा करने के साथ इससे पैसे भी कमा सकते हो इसके लिए दो अच्छी वेबसाइट FOTOLIA.COM और SHUTTERSTOCK.COM हैं इनमे आप साइनअप करके अपने फोटो को बेच सकते हैं यहाँ पर आप अपने फोटोग्राफी की अच्छी कीमत पा सकते हो. वहीं पेंटिंग की बात करे तो सबसे अच्छा ऑप्शन EBAY.COM है जहां पर रजिस्ट्रेशन करके आप अपने पेंटिंग की अच्छी कीमत पा सकते हो.
इस दौरान, श्यामा देवी ने आसानी से उपलब्ध फसल/कच्चे माल के साथ कुछ स्थानीय व्यवसाय करने के बारे में जानने/सीखने के लिए भी महिला समूह बनाया। इस प्रक्रिया में, केवीके ने महिला समूहों को खाद्य पदार्थों की पैकेजिंग, संरक्षण तकनीक, मूल्य संवर्धन आदि के प्रशिक्षण के साथ-साथ ऐसे उत्पादों के विपणन के बारे में कुशलता से सीखने के लिए प्रेरित किया। इससे महिलाओं को आर्थिक रूप से स्थिर और स्वतंत्र बनने में मदद मिली।
उदाहरण के तौर पर जब आप इसी वेबसाइट जैसे makehindi.com को ओपन करते हो तो इस पोस्ट के ऊपर नीचे विज्ञापन लगे होते है जब आप इनके विज्ञापन पर क्लिक करते है तो makehindi.com को इससे पैसे मिलते है. इसी तरह आप भी कर सकते हैं. आप अपनी खुद की वेबसाइट बनाकर उस पर गूगल ऐडसेन्स से विज्ञापन लगवा सकते है और वेबसाइट से पैसे कमा सकते हो. बता दे कि वेबसाइट से करोड़ों लोग करोड़ों रूपये कमा रहे है.
इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताएँगे की Internet se ghar baithe paise kamane ke tarike और कों सा तरीका आपके लिए सबसे अच्छा है?  वैसे ऑनलाइन पैसे कमाने के तरीके (Online Paisa Kamane Ke tareeke) तो बहुत सारे हैं लेकिन बहुत से काम ऐसे भी हैं जिनमे ठगी के सिवाय कुछ नहीं मिलता. अगर आप गूगल सर्च करते हैं ऑनलाइन कमाने के लिए तो वहाँ आपको कई तरीके मी जाएँगे लेकिन उनमें बहुत से घोटाले वाले मिलेंगे. जैसे की केपचा भरने का काम, ऑनलाइन सेर्वे वाला काम या फिर ऑनलाइन टाइपिंग वाला काम. इनमें Maximum कामों में ठगी होती है. इसलिए सही साइट का चायं करना बहुत ज़रूरी है ऐसे काम करने के लिए.

(function(){"use strict";function s(e){return"function"==typeof e||"object"==typeof e&&null!==e}function a(e){return"function"==typeof e}function l(e){X=e}function u(e){G=e}function c(){return function(){r.nextTick(p)}}function f(){var e=0,n=new ne(p),t=document.createTextNode("");return n.observe(t,{characterData:!0}),function(){t.data=e=++e%2}}function d(){var e=new MessageChannel;return e.port1.onmessage=p,function(){e.port2.postMessage(0)}}function h(){return function(){setTimeout(p,1)}}function p(){for(var e=0;et.length)&&(n=t.length),n-=e.length;var r=t.indexOf(e,n);return-1!==r&&r===n}),String.prototype.startsWith||(String.prototype.startsWith=function(e,n){return n=n||0,this.substr(n,e.length)===e}),String.prototype.trim||(String.prototype.trim=function(){return this.replace(/^[\s\uFEFF\xA0]+|[\s\uFEFF\xA0]+$/g,"")}),String.prototype.includes||(String.prototype.includes=function(e,n){"use strict";return"number"!=typeof n&&(n=0),!(n+e.length>this.length)&&-1!==this.indexOf(e,n)})},"./shared/require-global.js":function(e,n,t){e.exports=t("./shared/require-shim.js")},"./shared/require-shim.js":function(e,n,t){var r=t("./shared/errors.js"),i=(this.window,!1),o=null,s=null,a=new Promise(function(e,n){o=e,s=n}),l=function(e){if(!l.hasModule(e)){var n=new Error('Cannot find module "'+e+'"');throw n.code="MODULE_NOT_FOUND",n}return t("./"+e+".js")};l.loadChunk=function(e){return a.then(function(){return"main"==e?t.e("main").then(function(e){t("./main.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"dev"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("dev")]).then(function(e){t("./shared/dev.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"internal"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("internal"),t.e("qtext2"),t.e("dev")]).then(function(e){t("./internal.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"ads_manager"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("ads_manager")]).then(function(e){t("./ads_manager/main.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"publisher_dashboard"==e?t.e("publisher_dashboard").then(function(e){undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"content_widgets"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("content_widgets")]).then(function(e){t("./content_widgets.iframe.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):void 0})},l.whenReady=function(e,n){Promise.all(window.webpackChunks.map(function(e){return l.loadChunk(e)})).then(function(){n()})},l.installPageProperties=function(e,n){window.Q.settings=e,window.Q.gating=n,i=!0,o()},l.assertPagePropertiesInstalled=function(){i||(s(),r.logJsError("installPageProperties","The install page properties promise was rejected in require-shim."))},l.prefetchAll=function(){t("./settings.js");Promise.all([t.e("main"),t.e("qtext2")]).then(function(){}.bind(null,t))["catch"](t.oe)},l.hasModule=function(e){return!!window.NODE_JS||t.m.hasOwnProperty("./"+e+".js")},l.execAll=function(){var e=Object.keys(t.m);try{for(var n=0;n=c?n():document.fonts.load(u(o,'"'+o.family+'"'),a).then(function(n){1<=n.length?e():setTimeout(t,25)},function(){n()})}t()});var w=new Promise(function(e,n){l=setTimeout(n,c)});Promise.race([w,m]).then(function(){clearTimeout(l),e(o)},function(){n(o)})}else t(function(){function t(){var n;(n=-1!=y&&-1!=g||-1!=y&&-1!=v||-1!=g&&-1!=v)&&((n=y!=g&&y!=v&&g!=v)||(null===f&&(n=/AppleWebKit\/([0-9]+)(?:\.([0-9]+))/.exec(window.navigator.userAgent),f=!!n&&(536>parseInt(n[1],10)||536===parseInt(n[1],10)&&11>=parseInt(n[2],10))),n=f&&(y==b&&g==b&&v==b||y==x&&g==x&&v==x||y==j&&g==j&&v==j)),n=!n),n&&(null!==_.parentNode&&_.parentNode.removeChild(_),clearTimeout(l),e(o))}function d(){if((new Date).getTime()-h>=c)null!==_.parentNode&&_.parentNode.removeChild(_),n(o);else{var e=document.hidden;!0!==e&&void 0!==e||(y=p.a.offsetWidth,g=m.a.offsetWidth,v=w.a.offsetWidth,t()),l=setTimeout(d,50)}}var p=new r(a),m=new r(a),w=new r(a),y=-1,g=-1,v=-1,b=-1,x=-1,j=-1,_=document.createElement("div");_.dir="ltr",i(p,u(o,"sans-serif")),i(m,u(o,"serif")),i(w,u(o,"monospace")),_.appendChild(p.a),_.appendChild(m.a),_.appendChild(w.a),document.body.appendChild(_),b=p.a.offsetWidth,x=m.a.offsetWidth,j=w.a.offsetWidth,d(),s(p,function(e){y=e,t()}),i(p,u(o,'"'+o.family+'",sans-serif')),s(m,function(e){g=e,t()}),i(m,u(o,'"'+o.family+'",serif')),s(w,function(e){v=e,t()}),i(w,u(o,'"'+o.family+'",monospace'))})})},void 0!==e?e.exports=a:(window.FontFaceObserver=a,window.FontFaceObserver.prototype.load=a.prototype.load)}()},"./third_party/tracekit.js":function(e,n){/**


गूगल ऐडसेंस एप्रूवल मिलना बहुत कठिन तो नहीं है लेकिन कई बार लोगों को महीनों तक इंतिज़ार करना पड़ सकता है। गूगल ऐडसेंस पहले अकाउंट लेवल एक्शन जल्दी ले लेता था जिससे आपकी ज़रा सी लापरवाही आपकी आमदनी को ख़त्म कर सकती थी। आज गूगल ऐडसेंस एकाउंट लेवल एक्शन लेने की बजाय पेज लेवल एक्शन लेने लगा है लेकिन फिर भी आपको Media.net के बारे में जानकारी रखनी चाहिए और इसपर भी एकाउंट एप्रूव करा लेना चाहिए। ताकि जब ज़रूरत हो तो आप ऐडसेंस की जगह Media.net ads का प्रयोग कर सकें।

प्रकृति में सक्रिय होने के कारण श्यामा देवी ने महिला जागृति समूह की स्थापना और शुरुआत की। अपने गाँव के महिला समूह के बीच आर्थिक बाधाओं और स्वतंत्रता की कमी की समस्याओं को महसूस करने पर, श्यामा देवी ने दृढ़ता से अपना पक्ष रखा और महिला स्व-सहायता समूहों पर कृषि विज्ञान केंद्र और ब्लॉक अधिकारियों द्वारा संबोधित की जाने वाली महिलाओं के एक समूह में शामिल हो गईं। केवीके और अन्य संबंधित विभागों से जानकारी इकट्ठा करके, श्यामा ने इन समूहों के बारे में अपनी साथी महिला ग्रामीणों को शिक्षित करने के लिए अपनी यात्रा शुरू की।
×