आप ब्लॉगिंग (Blogging) से साथ साथ अफिलीयेट मार्केटिंग से भी पैसे कमा सकते हैं. जब आप ब्लॉगिंग कर गूगल एड्सेंस (Google Adsense) से पैसे कमा सकते हैं तो अफिलीयेट (Affiliate marketing) आपके लिए इससे भी आसान होगा. क्यूंकी गूगल एड्सेंस से पैसे कमाने का मतलब है की आपके ब्लॉग मैं अच्छा ख़ासा ट्रॅफिक आता है. तो ऐसे में आप किस चीज़ का इंतजार कर सकते हैं जल्दी से टॉप अफिलीयेट नेटवर्क्स में अप्लाइ करें और अपने ब्लॉग में अफिलीयेट से पैसे कमायें. अफिलीयेट मतलब बिना इनवेस्टमेंट के पैसे कामना Online without Investment Paise Kaise Kamaye.


Roz dhan एक Video Sharing aplication है। जिसमें आपको Funny, Entertainment, Health related, dance, Music, Celebs और अन्य बहुत केटेगरी के videos देखने को मिलते हैं। इस एप्लीकशन में आप video share करके पैसा कमा सकते हैं और खुद भी Photos और Videos बनाकर  उसको शेयर करके पैसे कमा सकते है। Roz Dhan App में आपको हिंदी, अंग्रेजी, और तेलुगु भाषा की videos देखने को मिलती हैं और अभी  इस app में और भी भारतीय भाषाओ को जोड़ा जा रहा है ताकि सभी लोग इसका आनंद ले सके।
अपना इंटेरेस्ट जानने का आसान तारीक़ यह है की आप बहुत ही शांत और आराम से अपने दिमाग से सोचो की आपको सबसे ज्यादा क्या पसंद है। आपका क्या शौक है? किस काम को करने में आपका ज्याद ध्यान लगता है. ऐसा कौन सा काम है जो आप आसानी से कर सकते हैं और जिसमे आप आप अपने दोस्तों या घर वालो की मदद ले सकते है. आप किसी भी चीज़ में अपनी योग्यता साबित कर सकते हैं. अप अपने इंटेरेस्ट के हिसाब से नीचे दी गयी चीज़ों में से आप किसी मैं भी राइटिंग, अफिलीयेट या वीडियो क्रियेशन कर सकते हैं.
बातचीत का अभाव, स्वार्थी उद्देश्य और लाभ, ये सभी शिक्षक-छात्र संबंधों के हिस्से में नहीं होते हैं, क्योंकि ये संबंध स्वार्थी हितों से अलग होते हैं। इन सभी के लिए कोई अवधि नहीं होती है। लेकिन कुछ दिन पहले, मैंने एक समाचार पत्र पढ़ा था जिसमें मैंने जो कुछ भी सोचा था वह उसके विपरीत ही था। ठाकुर विद्या मंदिर विद्यालय के एक प्रधानाचार्य और शिक्षक ने अपने पूर्व छात्रों को अपनी पत्नी की हत्या के लिए 50, 000 रुपये दिए। प्राधानाचार्य अपनी पत्नी को मारना चाहते थे, क्योंकि उनकी पत्नी ने उन पर उसी स्कूल की महिला छात्रों के साथ संबंध रखने के लिए संदेह किया था। उन छात्रों ने उनकी पत्नी को मार दिया और उनका शव फेंकने से पहले उसके शरीर को टुकड़ों में काट दिया था। जिसने निर्दयता की सीमा को पार कर दिया। नैतिक महत्व और मानकों में भी गिरावट आ गयी है, इस कारण अच्छे संबंध भी अप्रभावित नहीं टिक पा रहे हैं। हमें ऐसे शिक्षकों के बारे में विचार करना होगा, जो नैतिक मान्यता को स्थापित करने की बजाय इस तरह के अनैतिक संबंधों और ऐसे कुकर्मों को करते हैं। शिक्षकों और छात्रों के बारे में इस तरह की अधिक से अधिक खबरें आ रही हैं, हमें इस तथ्य से सहमत होना होगा कि शिक्षा का नैतिक मूल्य से कोई लेना देना नहीं है और इस तथ्य को भी सुनिश्चित करना होगा कि शिक्षक-छात्र संबंध की परिभाषा बदल रही है या बिगड़ रही है।
×