आप ब्लॉगिंग (Blogging) से साथ साथ अफिलीयेट मार्केटिंग से भी पैसे कमा सकते हैं. जब आप ब्लॉगिंग कर गूगल एड्सेंस (Google Adsense) से पैसे कमा सकते हैं तो अफिलीयेट (Affiliate marketing) आपके लिए इससे भी आसान होगा. क्यूंकी गूगल एड्सेंस से पैसे कमाने का मतलब है की आपके ब्लॉग मैं अच्छा ख़ासा ट्रॅफिक आता है. तो ऐसे में आप किस चीज़ का इंतजार कर सकते हैं जल्दी से टॉप अफिलीयेट नेटवर्क्स में अप्लाइ करें और अपने ब्लॉग में अफिलीयेट से पैसे कमायें. अफिलीयेट मतलब बिना इनवेस्टमेंट के पैसे कामना Online without Investment Paise Kaise Kamaye.
यूट्यूब वर्ल्ड के नंबर वन आईटी कंपनी गूगल की सर्विस है, मतलब यूट्यूब गूगल का ही एक बड़ा हिस्सा है | कुछ लोगों को लगता है कि यूट्यूब पर काम करने से पैसा नहीं मिलता है, मतलब यूट्यूब फ्रॉड होता है | दोस्तों यूट्यूब का सारा कामकाज ऑनलाइन तरीके से होता है, यूट्यूब पर किसी भी जानकारी को अपलोड कर सकते हो | जिस इंसान को आपकी जानकारी पसंद आती है वह इंसान आपकी जानकारी लेता है |
UC News पर आप में बहुत से लोग न्यूज़ पढ़ने के लिए जाते होंगे. लेकिन आपको शायद यह नहीं पता होगा कि  UC न्यूज़ से आप अच्छी इनकम भी कर सकते हैं. अगर आप एक अच्छे राइटर हैं और आप UC News के लिए 300 से 400 शब्द के आर्टिकल आसानी से लिख सकते हैं. तो आप UC News पर न्यूज़ आर्टिकल लिख कर पैसे कमा सकते हैं. पैसे कमाने के लिए सबसे पहले आपको UC न्यूज पर अकाउंट बनाना पड़ता है और आपको UC न्यूज़ टाइप के आर्टिकल पब्लिश करने पढ़ते हैं.
सबसे पहले आपको Media.net की वेबसाइट पर जाकर अपनी वेबसाइट, फोन नम्बर और ईमेल पता भरकर इंविटेशन प्राप्त करना होगा। जब आपको इंविटेशन मिल जाए तो अपना सभी जानकारी सही सही भर दें। फिर आपको अकाउंट एप्रूवल मिल जाएगा जिसकी जानकारी आपका अकाउंट मैनेजर आपको देगा। इसके बाद अपनी Media.net पर Login कर सकते हैं। इसके बाद आप नए ऐड यूनिट बनाकर अपनी वेबसाइट थीम के अनुसार ऑप्टिमाइज़ कर सकते हैं और अपने ब्लॉग पर विज्ञापन लगाकर कमाई शुरु कर सकते हैं।

सबसे पहले हमें, YouTube पर channel बनाना पड़ेगा. और फिर उसमे खुदके विडियो upload करने पड़ेंगे. याद रहे, वो विडियो तुम्हारे ही होने चाहिये. नहीं तो हमें copyright strike मिलेगा. और फिर हमें हमारे videos को monetize करके adsense से connect करना पड़ेगा. जिस्से हमारे विडियो पर विज्ञापन नजर आएगा. और जब भी कोई व्यक्ति इंसान, विडियो देखते समय ads पर click करेगा. हमे पैसे मिलेंगे.


बातचीत का अभाव, स्वार्थी उद्देश्य और लाभ, ये सभी शिक्षक-छात्र संबंधों के हिस्से में नहीं होते हैं, क्योंकि ये संबंध स्वार्थी हितों से अलग होते हैं। इन सभी के लिए कोई अवधि नहीं होती है। लेकिन कुछ दिन पहले, मैंने एक समाचार पत्र पढ़ा था जिसमें मैंने जो कुछ भी सोचा था वह उसके विपरीत ही था। ठाकुर विद्या मंदिर विद्यालय के एक प्रधानाचार्य और शिक्षक ने अपने पूर्व छात्रों को अपनी पत्नी की हत्या के लिए 50, 000 रुपये दिए। प्राधानाचार्य अपनी पत्नी को मारना चाहते थे, क्योंकि उनकी पत्नी ने उन पर उसी स्कूल की महिला छात्रों के साथ संबंध रखने के लिए संदेह किया था। उन छात्रों ने उनकी पत्नी को मार दिया और उनका शव फेंकने से पहले उसके शरीर को टुकड़ों में काट दिया था। जिसने निर्दयता की सीमा को पार कर दिया। नैतिक महत्व और मानकों में भी गिरावट आ गयी है, इस कारण अच्छे संबंध भी अप्रभावित नहीं टिक पा रहे हैं। हमें ऐसे शिक्षकों के बारे में विचार करना होगा, जो नैतिक मान्यता को स्थापित करने की बजाय इस तरह के अनैतिक संबंधों और ऐसे कुकर्मों को करते हैं। शिक्षकों और छात्रों के बारे में इस तरह की अधिक से अधिक खबरें आ रही हैं, हमें इस तथ्य से सहमत होना होगा कि शिक्षा का नैतिक मूल्य से कोई लेना देना नहीं है और इस तथ्य को भी सुनिश्चित करना होगा कि शिक्षक-छात्र संबंध की परिभाषा बदल रही है या बिगड़ रही है।
×