यह वेबसाइट टेक्नोलॉजी से सम्बंधित सभी तरह का ज्ञान मुफ्त में प्रदान करने के लिए बनाया गया है | इस वेबसाईट के माध्यम से मैं राजकुमार सिंह (Subjectgo) आपको सभी तरह के तकनीकी ज्ञान मुफ्त में देने के लिए डिजाईन किया है | मैं इस वेबसाइट के माध्यम से मुफ्त में टेक्नोलॉजी से सम्बंधित ज्ञान जैसे: कंप्यूटर, इन्टरनेट, मोबाइल, सॉफ्टवेयर -ऐप्स इत्यादि चीजें सिखाने का पूरा कोशिश कर रहा हु |
हार्ड वर्क और स्मार्ट वर्क दोनों एक साथ साइट पर अगर आप करते हो तो आसानी से गूगल आपकी साइट ऊपर ले जाएगा | जैसे जैसे आपकी साइट ऊपर जाएगी वैसे-वैसे आपके साईट पर विजिटर्स की संख्या बढ़ेगी, आपके साइट पर जितने ज्यादा विजिटर्स होंगे उतने ज्यादा विजिटर्स आपके साइट पर मौजूद गूगल ऐडसेंस की ऐड पर क्लिक करेंगे जिससे ऑटोमेटिक आपको पैसा मिलेगा | गूगल ऐडसेंस का प्रोग्राम लेने के लिए गूगल ऐडसेंस का अकाउंट होना जरूरी होता है जिससे ज्यादा से ज्यादा पोस्ट आपके साइट पर आएगी और आप डॉलर में पैसा कमाने लग जाओगे |

आज के समय में ब्लॉगिंग एक ऐसा तरीका है, जो इंटरनेट से पैसे कमाने के लिए बहुत पोपुलर है. blogging से बहुत से लोग अपना करियर संवार चुके हैं और आज के समय में अच्छा खासा पैसा कमा रहे हैं. उनमें से कुछ पॉपुलर hindi ब्लॉगर के नाम है. - रोहित मेवाड़ा, हर्ष अग्रवाल, गोपाल मिश्रा, पवन कुमार और जुम्मे दीन खान. अगर सही मायने में देखा जाए तो, इनमे से रोहित मेवाडा ने हिंदी ब्लॉगिंग की नींव रखी.
गुजरात के सूरत शहर के एक छात्र ने प्रधानमंत्री और गुजरात के मुख्‍यमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी पर अपनी पीएचडी थिसिस को पूरा कर उसे सबमिट कर दिया है। इस छात्र का नाम सुनेंगे तो आप चौंक जाएंगे। डॉक्‍टरेट के इस स्‍टूडेंट का नाम मेहुल चोकसी है। मजेदार बात है कि इस छात्र का नाम भी भगोड़े हीरा व्‍यापारी की तरह मेहुल चोकसी है, जिस पर बैंकों का हजारों करोड़ रुपये लेकर भाग जाने का आरोप है।
बातचीत का अभाव, स्वार्थी उद्देश्य और लाभ, ये सभी शिक्षक-छात्र संबंधों के हिस्से में नहीं होते हैं, क्योंकि ये संबंध स्वार्थी हितों से अलग होते हैं। इन सभी के लिए कोई अवधि नहीं होती है। लेकिन कुछ दिन पहले, मैंने एक समाचार पत्र पढ़ा था जिसमें मैंने जो कुछ भी सोचा था वह उसके विपरीत ही था। ठाकुर विद्या मंदिर विद्यालय के एक प्रधानाचार्य और शिक्षक ने अपने पूर्व छात्रों को अपनी पत्नी की हत्या के लिए 50, 000 रुपये दिए। प्राधानाचार्य अपनी पत्नी को मारना चाहते थे, क्योंकि उनकी पत्नी ने उन पर उसी स्कूल की महिला छात्रों के साथ संबंध रखने के लिए संदेह किया था। उन छात्रों ने उनकी पत्नी को मार दिया और उनका शव फेंकने से पहले उसके शरीर को टुकड़ों में काट दिया था। जिसने निर्दयता की सीमा को पार कर दिया। नैतिक महत्व और मानकों में भी गिरावट आ गयी है, इस कारण अच्छे संबंध भी अप्रभावित नहीं टिक पा रहे हैं। हमें ऐसे शिक्षकों के बारे में विचार करना होगा, जो नैतिक मान्यता को स्थापित करने की बजाय इस तरह के अनैतिक संबंधों और ऐसे कुकर्मों को करते हैं। शिक्षकों और छात्रों के बारे में इस तरह की अधिक से अधिक खबरें आ रही हैं, हमें इस तथ्य से सहमत होना होगा कि शिक्षा का नैतिक मूल्य से कोई लेना देना नहीं है और इस तथ्य को भी सुनिश्चित करना होगा कि शिक्षक-छात्र संबंध की परिभाषा बदल रही है या बिगड़ रही है।
×