Topics : Make Money Onlineपैसे कमाए Share This : Share On FacebookShare to TwitterShare On Google PlusShare to PinterestShare On Linkedin About Author ( मेरे बारे मे )मेरा नाम Devisinh Sodha है. में Full Time Hindi Blogger , Seo Expert और Web Programmer हूँ. Pro Blog Hindi Blog उन लोगो की मदद के लिए बनाया गया है जो Blogging, Search Engine Optimizetion, Make Money Online, Blogspot, Wordpress और Programming सीखना चाहते है. Newer Post Older Post
श्यामा की कड़ी मेहनत को देखकर, अब उसका पति भी समूह की गतिविधियों में उसकी मदद करता है। श्यामा के अपने शब्दों में, “मुझे अपने काम से प्यार है। मेरी सबसे बड़ी उपलब्धि यह थी कि मैंने पहले सब कुछ आजमाया, अनुभव हासिल किया और फिर दूसरों को सलाह दी।” श्यामा देवी अपने स्वयं-सहायता समूह के काम में कामयाबी के साथ-साथ अन्य महिलाओं के बीच अपने जीवन में बदलाव लाने के लिए जागरूकता फैलाती हैं।
यदि आप एक अच्छे विडियो क्रिएटर बन जाते हैं, तो एक आप एक अच्छी इनकम कर सकते हैं. यूट्यूब येसा ही ऑनलाइन प्लेटफार्म प्रदान करता है, जहां से आप अपने वीडियो को क्रिएट कर अपलोड कर सकते हैं. यदि आपके विडियो के उपर एक अच्छा ट्रैफिक आने लगता है, तो यूट्यूब आपके चैनल को मोनेटाइजेशन कर देता है, यानि आपकी वीडियो पर यूट्यूब उस पर विज्ञापन दिखाना शुरु कर देता है.

एक पारंपरिक भारतीय व्यवस्था में गुरु-शिष्य का रिश्ता एक बहुत ही पवित्र रिश्ता माना जाता था, जहाँ गुरु या शिक्षक अपने छात्रों में, आध्यात्मिक, वैदिक, नैतिक और अकादमिक शिक्षाओं को संचारित करते थे। गुरु शब्द का अर्थ एक अंधेरे में फंसे हुए व्यक्ति को ज्योतिमान करना (गु का अर्थ है, अंधकार और रू का अर्थ प्रकाश) है। संपूर्ण उस समय शिक्षा का उद्देश्य उच्च नैतिक महत्व से संतुलित व्यक्तित्व में तथा अज्ञानता को एक ज्ञानता में बदलना होता था। इसके बदले में छात्र अपने गुरुओं के घर के कार्यों में सहायता करते थे और जो समर्थ होता था वह गुरू दक्षिणा के रूप में धन का भुगतान करता था। यह पारस्परिक संबंध शिक्षक के ज्ञान और छात्र की आज्ञाकारिता पर आधारित था। ऐसे गुरु-शिष्य संबंध में, एक सक्षम गुरु के कंधों पर सब कुछ छोड़ दिया जाता था, जो एक निर्माता के रूप में अभिनय करके, अपने शिष्यों या छात्रों को एक नई आकृति प्रदान करता था।
[caption id="attachment_123" align="aligncenter" width="300"] Make online money freelancing[/caption] आपके पास अगर कोई skill है तो आप अपने उस skill का प्रयोग करके किसी दूसरे व्यक्ति को मदद कर सकते हैं और उससे income generate कर सकते हैं इसके लिए भी आपको बहुत सारे वेबसाइट  मिल जाएंगे जिस पर आप अपने experience share करके अच्छे खासे कर सकते हैं हम आपको कुछ website बता देते हैं Fivver, Freelancer,Upwork ….etc इन सभी वेबसाइट पर आप जाकर account create करके वहां पर अपने बारे में detail में Resume तैयार करना है फिर उसके बाद अगर आप fivverपर जाते हैं तो एक Gig तैयार करना होता है उसके बाद आपके प्रोफाइल को लोग देखेंगे और फिर वहां से  आपको काम करने के लिए order देंगे और फिर आप काम पूरा कर देते हैं तो इन सब वेबसाइट थोड़े कमीशन काट कर आपको पूरा पैसा दे देता है |इस प्रकार भी आप ऑनलाइन पैसे कमा सकते हैं | Affiliate marketing:- आप Affiliate marketing करके भी आप बहुत सारे पैसे कमा सकते हैं अगर आप Affiliate marketing  नहीं जानते हैं तो इसमें आपको Online shoping company जो होती है वह अपना Affiliate program चलाती है जिस को join करके आप कंपनी के product को sell करवाते हैं  तो आपको उसका कुछ प्रतिशत कमीशन के तौर पर आपको दे देती है | Affiliate marketing  क्या है इसे कैसे करते है :- जरूर पढें  [caption id="attachment_101" align="aligncenter" width="455"]Affiliate marketing[/caption] कंपनी के product को सेल करने के लिए आपको उस product के लिंक को  आप सोशल मीडिया पर शेयर करते हैं | जैसे की Facebook Twitter,instagram,whatsApp  इन सभी पर शेयर करते हैं और फिर कोई आपके लिंग के द्वारा जाकर किसी प्रोडक्ट को खरीदता है | हम आपको कुछ Top online shopping website   का उदाहरण दे रहे हैं जिसे आप आसानी से ज्वाइन कर सकते हैं वह है:-Amazon, Flipkart, Ebay, Alibaba, Myntra, Shopcules आदि बहुत ऐसे कंपनियां है  जो affiliate program को चलाती है और यह लगभग सभी online shopping कंपनियां चलाती है |   इसके अलावा आप बहुत सारे ऐसे काम कर सकते हैं जैसे:-Influencer marketing,sponshership,gadget review,promoting,online course provide………etc बहुत सारे आपको platform मिल जाएंगे जिससे आप  पैसा आसानी से बना सकते हैं लेकिन आपको इसके लिए शुरूआत में मेहनत करना होगा |   तो दोस्तों आशा करता हूं कि आपको इन सभी तरीके अच्छे से तो समझ में नहीं आया होगा क्योंकि हमने सिर्फ यहां पर इन सभी चीजों का Introduction  है आप पूरे Detail में इसे समझना चाहते हैं तो आप इस ब्लॉग को subscribe सकते हैं जिससे आपको ईमेल पर पूरी Detail जब भी हम पोस्ट डालेंगे तो चले जाएगी आपको वेबसाइट पर आने की जरूरत नहीं है और अगर अच्छा लगा हो और लगता है आपको कि इससे कुछ हमें मदद मिल गया है तो आप अपने दोस्तों के साथ इसे जरुर शेयर करें |  ]]>
एक पारंपरिक भारतीय व्यवस्था में गुरु-शिष्य का रिश्ता एक बहुत ही पवित्र रिश्ता माना जाता था, जहाँ गुरु या शिक्षक अपने छात्रों में, आध्यात्मिक, वैदिक, नैतिक और अकादमिक शिक्षाओं को संचारित करते थे। गुरु शब्द का अर्थ एक अंधेरे में फंसे हुए व्यक्ति को ज्योतिमान करना (गु का अर्थ है, अंधकार और रू का अर्थ प्रकाश) है। संपूर्ण उस समय शिक्षा का उद्देश्य उच्च नैतिक महत्व से संतुलित व्यक्तित्व में तथा अज्ञानता को एक ज्ञानता में बदलना होता था। इसके बदले में छात्र अपने गुरुओं के घर के कार्यों में सहायता करते थे और जो समर्थ होता था वह गुरू दक्षिणा के रूप में धन का भुगतान करता था। यह पारस्परिक संबंध शिक्षक के ज्ञान और छात्र की आज्ञाकारिता पर आधारित था। ऐसे गुरु-शिष्य संबंध में, एक सक्षम गुरु के कंधों पर सब कुछ छोड़ दिया जाता था, जो एक निर्माता के रूप में अभिनय करके, अपने शिष्यों या छात्रों को एक नई आकृति प्रदान करता था।
×